Thursday, Jun 17, 2021
-->
black-fungus-havoc-in-the-country-one-woman-died-in-lucknow-prshnt

देश में Black Fungus का कहर तेज, लखनऊ में एक महिला की मौत, मरीजों की संख्या बढ़ी

  • Updated on 5/14/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। देश में कोरोना का कहर के बीच देश में ब्लैक फंगस म्यूकोरमाइकोसिस ने भी लोगों को तेजी से अपनी चपेट में ले रहा है। लखनउ में एक महिला की इसके कारण मौत हो गई है। महिला को आंख और नाक के पास सूजन के बाद लोहिया संस्थान में भर्ती कराया गया है। तब महिला में ब्लैक फंगस पाया गया। बता दें कि ब्लैक फंगस का मामला उत्तर प्रदेश में यह पहला था जब किसी मरीज की मौत ब्लैक फंगस संक्रमण के कारण हुई। कोरोना संक्रमण के बीच जानलेवा ब्लैक फंगस के मामले भी समने आ रहे हैं। सोमवार को महिला मरीज की मौत हुई जो ब्लैक फंगस से पीड़ित थी। 

नीति आयोग का दावा- एक बार फिर से विकराल रुप ले सकता है कोरोना वायरस

ठाणे जिला में दो मौते
नए आकड़ों के अनुसार दो दिन में ही ब्लैक फंगस के 86 नए केस सामने आए हैं और अबतक 200 मरीजों का इलाज चल रहा है। इसका कहर इस तरह बढ़ रहा है कि महाराष्ट्र के ठाणे जिला में भी म्यूकोरमायकोसिस के संक्रमण के कारण कोविड-19 से प्रभावित दो लोगों की मौत हो गयी। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बुधवार को इस बारे में जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि इसके अलावा इसी बीमारी से ग्रसित छह अन्य मरीजों का भी इलाज चल रहा है।

म्यूकोरमायकोसिस एक दुर्लभ किस्म का गंभीर फंगल संक्रमण है। इसे ‘ब्लैक फंगस’ के नाम से भी जाना जाता है। महिला की जान बचाने के लिए डाक्टर कुछ कर पाते उससे पहले ही मरीज की मौत हो गयीं। 

विज्ञान से ज्यादा हिंदुत्व पर हैं सरकार को भरोसा

फंगल संक्रमण से मौत
नगर निगम की स्वास्थ्य अधिकारी डॉ अश्विनी पाटिल ने बताया कि कल्याण डोंबिवली नगर निगम (केडीएमसी) के अंतर्गत आने वाले अगल- अलग अस्पतालों में ठाणे ग्रामीण के म्हारल से 38 वर्षीय मरीज और डोंबिवली शहर से एक मरीज की कोविड-19 के उपचार के दौरान इस फंगल संक्रमण से मौत हो गयी। उन्होंने बताया कि छह अन्य मरीजों का म्यूकोरमायकोसिस का इलाज चल रहा है और इनमें से दो को आईसीयू में भर्ती किया गया है। 

बंगाल में हिंसा को लेकर अब विश्व हिन्दू परिषद ने खोला मोर्चा, राष्ट्रपति से लगाई गुहार

उपचार में स्टेरॉयड का अधिक इस्तेमाल नहीं करने की सलाह
अधिकारी ने यह भी बताया कि कोविड-19 के मरीजों को घबराने की जरूरत नहीं है क्योंकि यह फंगल संक्रमण ज्यादातर उन्हीं मरीजों में देखा गया है जो मधुमेह से पीड़ित हैं। ऐसे मरीजों को अपना मधुमेह का स्तर नियंत्रण में रखना चाहिए। अधिकारी ने बताया कि कोविड-19 के मरीजों में म्यूकोरमायकोसिस का संक्रमण देखा जा रहा है और उनके उपचार में स्टेरॉयड का अधिक इस्तेमाल नहीं होना चाहिए। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार म्यूकोरमायकोसिस के लक्षणों में सिरदर्द, बुखार, आंखों में दर्द, नाक बंद या साइनस और देखने की क्षमता पर आंशिक रूप से असर शामिल है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.