Wednesday, Dec 07, 2022
-->
black-fungus-medicine-shortage-in-delhi-govt-hospitals-kmbsnt

दिल्ली में कैसे हो ब्लैक फंगस का इलाज? सरकारी अस्पतालों में दवा की भारी कमी

  • Updated on 5/27/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली में कोरोना संक्रमण की रफ्तार धीरे-धीरे कम हो रही है, तो वही ब्लैक फंगस के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। जानकारी के अनुसार दिल्ली में ब्लैक फंगस के कुल 613 मामले अब तक सामने आ चुके हैं। ब्लैक फंगस के मामलों की बढ़ोतरी के साथ इसकी इंजेक्शन की कमी भी एक बड़ी चुनौती बनकर सामने आ रही है।

दिल्ली के लोक नायक जयप्रकाश अस्पताल में ब्लैक फंगस के कुल 70 मरीज भर्ती हैं। एलएनजेपी अस्पताल के ईएनटी विभाग के 2 वार्ड पहले ही ब्लैक फंगस के मरीजों से भर चुके हैं। साथ ही ईएनटी विभाग के दो और वार्ड अभी तैयार किए गए हैं।

कोरोना दवाओं की जमाखोरी के आरोपों पर BJP सांसद गौतम गंभीर ने रखा पक्ष

एलएनजेपी अस्पताल में ब्लैक फंगस की दवा की भारी कमी
वहीं नाम न बताने की शर्त पर एलएनजेपी अस्पताल के एक वरिष्ठ डॉक्टर का कहना है कि अस्पताल में ब्लैक फंगस मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है, लेकिन दवाइयां और इंजेक्शन जुटाने के लिए अस्पताल को मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है। दिल्ली के कड़कड़डूमा स्थित स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय में प्रतिदिन अपनी जरूरत के हिसाब से दवाइयां और इंजेक्शन की लिस्ट बनाकर भेजी जा रही है, लेकिन वहां से भी हमें दवाई और इंजेक्शन पूरे नहीं मिल रहे हैं।

अस्पताल में मरीज छटपटा रहे हैं और हमारे पास इंजेक्शन उपलब्ध ना होने के कारण जिन को इसकी जरूरत है उन्हें इंजेक्शन नहीं दे पा रहे हैं।

प्राइवेट अस्पतालों में मची है लूट
ऐसे में भर्ती मरीजों के तीमारदारों का कहना है कि बड़े प्राइवेट अस्पताल में इलाज तो मिल रहा है लेकिन प्राइवेट अस्पताल लाखों रुपए का बिल भी बना रहे हैं। ज्यादातर लोग इतने पैसे नहीं चुका सकते हैं ऐसे में मजबूरन सरकारी अस्पतालों में मरीजों को भर्ती करवाना पड़ रहा है। वहीं सरकारी अस्पतालों में इलाज में देरी हो रही है और इस बीमारी में समय पर इलाज ही सब कुछ है।

केजरीवाल ने वैक्सीन की किल्लत के बहाने मोदी सरकार पर साधा निशाना,कहा- गंभीरता से करें विचार

दिल्ली को रोजाना 3500 इंजेक्शन की जरूरत
दिल्ली सरकार का कहना है कि दिल्ली को रोजाना 3500 इंजेक्शन की जरूरत है, लेकिन केंद्र ने बुधवार को 300 और मंगलवार को 400 इंजेक्शन ही उपलब्ध कराए हैं। जिसकी वजह से अस्पतालों को इस प्रकार की समस्या आ रही है। अचानक ब्लैक फंगस के मामलों की बढ़ोतरी के साथ इसकी दवा की कमी भी लोगों और सरकार के लिए एक बड़ी चुनौती बनकर सामने आई है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.