देश की राजनीति में हो रहे रोज धमाके पर धमाके

  • Updated on 1/18/2019

देश की राजनीति आज एक अजीब दौर से गुजर रही है। विभिन्न राजनीतिक दलों के साथ जुड़े हुए लोगों का विभिन्न कारणों से अपने ही राजनीतिक दलों से मोह भंग हो रहा है। इसका प्रमाण है मात्र दो दिनों में तीन राजनीतिक दलों से जुड़े लोगों द्वारा अपने ही दलों से नाता तोडना। 

15 जनवरी को अरुणाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री गेगांग अपांग ने भाजपा छोडऩे की घोषणा कर दी। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को भेजे पत्र में उन्होंने लिखा है कि ‘‘मैं यह देख कर निराश हूं कि वर्तमान भाजपा अब श्री अटल बिहारी वाजपेयी के राजधर्म के सिद्धांत का पालन नहीं कर रही है बल्कि सत्ता पाने का मंच बन कर रह गई है। पार्टी का नेतृत्व लोकतांत्रिक फैसलों के विकेंद्रीकरण से नफरत करता है।’’ 

‘‘वाजपेयी जी ने मुझे यह सीख दी थी कि राजनीतिक आदर्शों से समझौता करके सत्ता प्राप्त करने की बजाय राजनीतिक तौर पर अलग-थलग हो जाना बेहतर है। नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार जनता की वास्तविक समस्याओं का हल नहीं कर रही है।’’ 

16 जनवरी को जैतो से ‘आम आदमी पार्टी’ (आप) के विधायक मास्टर बलदेव सिंह ने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से त्यागपत्र देते हुए पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल पर तानाशाह और घमंडी होने का आरोप लगाया। 

इनके अनुसार, ‘‘पार्टी अपने सिद्धांतों व नीतियों से भटक गई है। मैं अन्ना हजारे के आंदोलन और भ्रष्टाचार के विरुद्ध शुरू किए गए पार्टी के अभियान से प्रभावित होकर ‘आप’ में शामिल हुआ परंतु ‘आप’ ने लोगों की भावनाओं का सम्मान न करते हुए बाहरी लोगों को थोपना शुरू कर दिया।’’ 

उल्लेखनीय है कि इससे पूर्व 3 जनवरी को दाखा के विधायक एच.एस. फूलका ने भी पार्टी छोड़ दी है और 8 जनवरी को पार्टी से निलंबित विधायक सुखपाल खैहरा अपनी अलग पार्टी बना चुके हैं।

16 जनवरी को ही ओडिशा में कांग्रेस को झटका देते हुए प्रदेश में पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष और झारसुगड़ा से 2 बार विधायक चुने गए नब किशोर दास ने विकास के मुद्दे पर पार्टी से त्यागपत्र देने की घोषणा कर दी है। 

विभिन्न मुद्दों को लेकर मात्र दो दिनों में 3 नेताओं द्वारा अपनी पाॢटयों से त्यागपत्र देने से स्पष्टï है कि आज राजनीतिक दलों में और इनसे जुड़े लोगों में सब ठीक नहीं चल रहा है और स्वयं राजनीतिज्ञों की ही अपने दलों पर से आस्था उठती जा रही है।                                                                                                                                                  —विजय कुमार 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.