Friday, Oct 07, 2022
-->
Bollywood actor Sonu Sood helping migrant laborers apologized for missing messages rkdsnt

प्रवासी मजदूरों की मदद में जुटे बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद ने मांगी माफी

  • Updated on 5/27/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद इन दिनों तन-मन और धन से प्रवासी मजदूरों की मदद में जुटे हैं। इसको लेकर उन्हें सभी ओर से तारीफ मिल रही हैं। इसके साथ ही सोनू सूद के हौसलें भी बुलंद होते जा रहे हैं। जो काम सरकारें नहीं कर पा रही हैं, वो अकेले सोनू सूद करने में जुटे हैं। इस बीच अभिनेता ने कोई कसर रहने के लिए माफी भी मांगी है।

केजरीवाल #DilliKeHeroes की कहानियां सोशल मीडिया पर करेंगे शेयर, पहली स्टोरी...

हिमाचल प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बिंदल ने हेल्थ घोटाले के बीच छोड़ा पद, कांग्रेस ने उठाए सवाल

अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा है, 'आपके संदेश हमें इस रफ़्तार से मिल रहें हैं।  मैं और मेरी टीम पूरी कोशिश कर रहें हैं हर किसी को मदद पहुँचे! लेकिन अगर इस में हम कुछ मेसजेज़ को मिस कर दें, उसके लिए मुझे क्षमा कीजिएगा।' इसके साथ ही सोशल मीडिया पर सोनू के जज्बे को सभी सलाम कर रहे हैं और उन्हें असली कोरोना वॉरियर कर दे रहे हैं। 

कन्हैया कुमार बोले- ‘नए भारत’ का नया ही खेल, मरते मज़दूर, भटकती रेल

लोगों ने सोनू द्वारा किए जा रहे भलाई के काम को दूसरे राजनेताओं, बिजनेसमैन और बॉलीवुड हस्तियों के साथ कंपेयर भी किया है, जो सरकार के गुणगान में तो लगे रहते हैं, लेकिन इस संकट की घड़ी में सामने नहीं आते हैं। ऐसी भी हस्तियां हैं जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर फिल्म बना देंगी, उनके प्रचार में विज्ञापन भी करेंगी, लेकिन ऐसी संकट में गरीबों की मदद में आगे नहीं  आएंगीं।

प्रवासियों मजदूरों पर सुप्रीम कोर्ट के संज्ञान पर प्रशांत भूषण ने ली राहत की सांस

सोनू ने अपने बूते पर बसें बुक कराके फंसे प्रवासियों को घर पहुंचाने में उनकी मदद कर रहे हैं। अब तक वह करीब 15 हजार प्रवासी मजदूरों को उनके घर भेजने में सफल रहे हैं। सोनू का कहना है कि जब तक वो अपने सभी प्रवासी भाई को उनके घर नहीं भेज देते, तब तक वो नहीं रुकेंगे। अब सोशल मीडिया पर सोनू के लिए पद्म विभूषण देने की मांग उठ रही है।

महाराष्ट्र में राणे तो गुजरात में हार्दिक पटेल ने की राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

comments

.
.
.
.
.