Thursday, Feb 25, 2021
-->
bollywood star Sanjay Dutt and his wife want to give normal childhood to their children

संजय दत्त और उनकी पत्नी अपने बच्चों को देना चाहते हैं नॉर्मल चाइल्डहुड

  • Updated on 11/16/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अभिनेता संजय दत्त (Sanjay Dutt) और पत्नी मानयता दत्त (Manyata Dutt) के बच्चे शाहरान और इकरा हाल ही में नौ साल के हो गए है, ऐसे में उनके माता-पिता ने सोशल मीडिया पर उन पर बेशुमार प्यार की बरसात की थी। हालाँकि, दिलचस्प बात यह है कि अन्य स्टार किड्स के विपरीत, संजय और पत्नी मानयता दोनों यह सुनिश्चित करते हैं कि उनके बच्चे पपराजी से सुरक्षित दूरी बनाए रखें।

Marjaavan Interview: फिल्म के डायलॉग पढ़कर रितेश देशमुख हुए थे नर्वस, देखें Video

ऐसे समय में जब स्टार किड्स सभी का ध्यान आकर्षित कर रहे है तो दत्त दंपति अपने बच्चों को सुर्खियों से दूर रखने का प्रबंधन कैसे करती है? इस पर मान्यता कहती हैं, '' मैं यह जानती हूँ कि स्टार किड्स होने के नाते मेरे बच्चों को मिलने वाला एक्सपोजर लेवल और अटेंशन अलग है। और मैं इस बात से भी वाकिफ रखती हूं कि इसका उन पर क्या असर हो सकता है।

आने वाले तूफान की झलक के साथ सामने आया कालीन भैया के मिर्जापुर-2 का टीजर

मान्यता ने अपने बच्चों की परवरिश को लेकर कही ये बात

बॉलीवुड (Bollywood) की इस जोड़ी ने अपने बच्चों की परवरिश एक निश्चित तरीके से करने का फैसला किया है। इसके बारे में बताते हुए मान्यता कहती हैं, "हम दोनों स्पष्ट हैं कि हम चाहते हैं कि हमारे बच्चे अधिक से अधिक सामान्य रूप से बड़े हों। हम किसी भी अन्य माता-पिता की तरह अनुशासन रखते हैं और जितना संभव हो सके उनकी नियमित गतिविधियों पर ध्यान केंद्रित कर, उन्हें इन सब चीज़ों से दूर रखने की कोशिश करते हैं। मैं गर्व के साथ कह सकती हूं कि इन दोनों की परवरिश अच्छी हुई है।

मिर्जापुर 2 की शूटिंग हुई शुरू, एक बार फिर नजर आएंगे कालीन भैया 

प्रोडक्शन के साथ एक ट्रेडिंग कंपनी चला रही हूं- मान्यता

एक तरफ जहाँ संजय फिल्मों में व्यस्त हैं, वहीं मान्यता अपना घर और प्रोडक्शन हाउस संभालने में व्यस्त है। यह पूछे जाने पर कि वह क्या चीज है जो उन्हें रचनात्मक रूप से दिलचस्प लगता है, वह कहती है, "मैं प्रोडक्शन हाउस के अलावा, सालों से एक ट्रेडिंग कंपनी चला रही हूं। मुझे लिखने और आर्ट्स का भी शौक है। मेरा बाकी समय मेरे परिवार को समर्पित है। यह कहना गलत नहीं होगा कि मेरे दोनों हाथ भरे हुए हैं।

comments

.
.
.
.
.