Friday, Feb 26, 2021
-->
britain approves moderna vaccine amid corona new strain pragnt

कोरोना के नए स्ट्रेन के बीच ब्रिटेन ने दी मॉडर्ना वैक्सीन को मंजूरी

  • Updated on 1/9/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दुनिया भर में कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर थमता हुआ नजर नहीं आ रहा है। आए दिन कोरोना से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा तेजी से आसमान छू रहा है। इस बीच अच्छी खबर सामने आई है कि ब्रिटेन (Britain) के औषधि नियामक प्राधिकार ने अमेरिकी बायोटेक कंपनी मॉडर्ना द्वारा निर्मित कोविड-19 टीके के इस्तेमाल की शुक्रवार को मंजूरी दे दी जो ब्रिटेन में मंजूरी पाने वाला तीसरा कोरोना वायरस टीका होगा।

Corona-19: टीकाकरण रणनीति पर चर्चा के लिए PM मोदी 11 जनवरी को मुख्यमंत्रियों से करेंगे मुलाकात

ब्रिटेन ने दिया 70 लाख डोज का ऑर्डर
अमेरिका (America) में पहले ही मॉडर्ना के टीकों के इस्तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है। अब इसे ब्रिटेन में फाइजर-बायोएनटेक और ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के टीकों के साथ टीकाकरण में शामिल किया जा सकता है। इन दो टीकों को पिछले साल मंजूरी मिलने के बाद राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) द्वारा टीकाकरण अभियान में शामिल किया गया। हालांकि नए टीके की आपूर्ति मार्च तक होने की उम्मीद नहीं है क्योंकि ब्रिटेन ने 70 लाख खुराकों का ऑर्डर दिया है, लेकिन इनका उत्पादन पहले अमेरिका में हो रहा है और यूरोप में इसके उत्पादन में कुछ समय लग सकता है।

ब्रिटेन में कोरोना के रिकॉर्ड 55 हजार से अधिक मामले रिपोर्ट, ये देश भी नए स्ट्रेन की चपेट में

95 प्रतिशत कारगर है वैक्सीन
मॉडर्ना के टीके के 30 हजार से अधिक लोगों पर हुए परीक्षण में कोविड से करीब 95 प्रतिशत सुरक्षा वाले परिणाम दर्शाए। फाइजर और बायोएनटेक के टीके की तरह काम करने वाले मॉडर्ना के टीके को शून्य से 20 डिग्री सेल्सियस कम तापमान पर रखना होता है। ब्रिटेन में इस्तेमाल के लिए अब तक स्वीकृत तीनों टीकों की दो खुराक लगानी होंगी। ब्रिटेन में अब तक करीब 15 लाख लोग कोविड-19 टीके की कम से कम एक खुराक लगवा चुके हैं।

दिल्ली को कोरोना के नए स्ट्रेन से बचाएंगे केजरीवाल? UK Returnees के लिए लिया ये बड़ा फैसला

फाइजर की कोरोना वैक्सीन को WHO की मंजूरी
इससे पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना वायरस से बचाव के लिए फाइजर-बायोएनटेक (Pfizer-bioentech) के टीके के आपात इस्तेमाल की मंजूरी दे दी थी और अब गरीब देशों को भी ये टीके उपलब्ध हो सकेंगे। अब तक ये टीके यूरोप और उत्तर अमेरिका में ही उपलब्ध थे। देशों की औषध नियामक एजेंसी किसी भी कोविड-19 टीके के लिए अपनी ओर से मंजूरी देती हैं, लेकिन कमजोर प्रणाली वाले देश आमतौर पर इसके लिए डब्ल्यूएचओ पर निर्भर करते हैं।

लॉकडाउन के कारण आर्थिक संकट से गुजर रही Delhi Metro, केंद्र और राज्यों से मांगी मदद

फाइजर-बायोएनटेक द्वारा निर्मित टीका
डब्ल्यूएचओ ने गुरुवार को कहा था कि कोविड-19 के टीके के आपात इस्तेमाल की मंजूरी देने के उसके फैसले से देशों को अवसर मिलेगा कि वे टीके आयात करने तथा इन्हें लगाने संबंधी अपने नियामकों की मंजूरी प्रक्रिया को गति प्रदान कर सकें। उसने कहा कि फाइजर-बायोएनटेक द्वारा निर्मित टीका संगठन द्वारा तय किए गए सुरक्षा मानकों एवं अन्य मापदंडों पर खरा उतरा है। 

गौरतलब है कि इस टीके को अमेरिका, ब्रिटेन, यूरोपीय संघ समेत अनेक देश मंजूरी दे चुके हैं। इस टीके को बहुत ही कम तापमान पर रखना होता है जो विकासशील देशों के लिए एक बड़ी चुनौती है।

दिल्ली सरकार ने जारी किए मेडिकल कॉलेज खोलने के दिशा-निर्देश

ब्रिटेन में कोरोना के रिकॉर्ड 55 हजार से अधिक मामले रिपोर्ट
कोरोना वायरस संक्रमण से जूझ रही दुनिया के सामने अब कोरोना के नए स्ट्रेन (New Strain) का खतरा मंडराने लगा है। इस बीच महज 24 घंटे में ब्रिटेन में कोरोना के रिकॉर्ड 55 हजार से अधिक नए पॉजिटिव मामले रिपोर्ट किए गए हैं और 964 लोगों की संक्रमण की चपेट में आने से मौत हो गई है। कोरोना वैक्सीन के मामले में अग्रणी देशों में गिने जाने वाले यूरोपीय देशों में पहली बार इतनी बड़ी संख्या में मामले मिलने से हड़कंप मच गया है।

दिल्ली के इन अस्पतालों में कोरोना वैक्सीनेशन का ड्राइ-रन आज

ये देश भी नए स्ट्रेन की चपेट में
कोरोना के नए स्ट्रेन के मामले न सिर्फ ब्रिटेन में मिल रहे हैं, बल्कि अमेरिका के कैलिफोर्निया और कोलोराडे के अलावा फ्लोरिडा प्रांत में भी सामने आ रहे हैं। ब्रिटेन में जारी कोरोना के आंकड़ों पर एक नजर डाले तो पता चलता है कि यहां बीते तीन से 50 हजार से अधिक कोरोना के नए मामले रिपोर्ट किए जा रहे हैं। 

वैक्सीन ड्राई रनः चेन्नई पहुंचे हर्षवर्धन, PM और फ्रंटलाइन वर्कर्स का किया धन्यवाद

ब्रिटेन में कोरोना की दूसरी लहर तेज
ब्रिटेन में कोरोना की दूसरी लहर के बीच संक्रमितों की संख्या बढ़कर 29 लाख 57 हजार का आंकड़ा पार कर गई है, जबकि यहां कोरोना की चपेट में आने से अब तक कुल 79 हजार 833 लोगों की मौत हो चुकी है। बता दें कि यहां कोरोना का नया स्ट्रेन मिलने के बाद से हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.