Wednesday, Mar 03, 2021
-->
britain high court gives shock to fugitive vijay mallya paving way for india extradition rkdsnt

ब्रिटेन : हाईकोर्ट ने दिया भगोड़े विजय माल्या को करारा झटका, प्रत्यर्पण का रास्ता साफ

  • Updated on 5/14/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। ब्रिटेन में हाईकोर्ट ने भगोड़े बिजनेसमैन विजय माल्या को करारा झटका दिया है। इसके साथ ही उसके भारत में प्रत्यर्पण का रास्ता साफ हो गया है। माना जा रहा है कि माल्या को अगले एक महीने में भारत के हवाले किया जा सकता है। हाई कोर्ट के फैसले को माल्या सुप्रीम कोर्ट में चुनौती भी नहीं दे सकेगा। 

कांग्रेस बोली-केंद्र के आर्थिक पैकेज में है ₹3,70,000 करोड़ का सिर्फ लोन पैकेज

बता दें कि आज ही माल्या ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को कोरोना संकट से निपटने के लिए 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज का ऐलान करने पर बधाई दी थी। इसके साथ ही शराब कोरोबारी ने सरकार से गुजारिश की थी कि वह उससे पैसा ले ले। साफ है कि माल्या को पता चल गया था कि कोर्ट से उसे राहत नहीं मिलने वाली है।

प्रशांत भूषण और यशवंत सिन्हा को भी हुई आर्थिक पैकेज से घोर निराशा, गिनाई खामियां

भारत से फरार माल्या इस समय लंदन में है और लंबे समय से कानून के दाव-पेंच का सहारा लेते हुए अपने प्रत्यर्पण के आगे खिंचाता रहा है। अपने ट्वीट उसने कहा था, ' कोरोना से लड़ने के लिए लाए गए आर्थिक पैकेज के लिए केंद्र सरकार को बधाई। सरकार जितने चाहे उतने पैसे छाप सकती है मगर सरकार को मेरे जैसे छोटे सहयोगकर्ता को  इग्नोर नहीं करना चाहिए जो स्टेट बैंक को अपना 100 फीसद पैसा वापस करना चाहता है। वह कहता है कि कृपया मेरे पैसे को बिना शर्त के ले लिया जाए और मेरा मामले को बंद किया जाए।'

सीतारमण की PC के बाद अनुराग कश्यप ने पूछा- उधार और Relief-Package में क्या फर्क है ?

माल्या इससे पहले भी कई बार बैंकों की रकम लौटने की बात कर चुका है, लेकिन कब और कैसे लौटाएगा इस बारे में कोई जानकारी नहीं देता है। मामला पर सरकारी बैंको के साथ धोखाधड़ी करने और 9000 करोड़ की चपत लगाने का आरोप है। भारत में उसके खिलाफ कई केस चल रहे हैं। उसकी संपत्तियों का जब्त भी किया जा चुका है। 

AAP सांसद बोले- आर्थिक पैकेज से एक बात तो साफ हो गई कि...

दरअसल, माल्या को लेकर देश की सियासत गर्म रही है। मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान ही माल्या अपने सामान के साथ विदेश फरार हो गया था। विपक्ष ने इसको लेकर मोदी सरकार को जमकर आड़े हाथ लिया था। बाद में आरोप लगे कि विदेश जाने से पहले तत्कालीन वित्तमंत्री अरुण जेटली की उससे संसद भवन में मुलाकात हुई थी। अब देखना होगा कि माल्या कब तक भारत आता है और उसे कानून उसके कर्मों की कितनी सजा देता है।

आत्मनिर्भर भारत मिशन : थरूर के शेर का अनुपम खेर ने भी दिया शायराना अंदाज में जवाब

 
Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.