Sunday, May 22, 2022
-->
broken-walls-of-religion-on-parshuram-jayanti-hindu-muslims-set-a-unique-example

परशुराम जयंती पर टूटी मजहब की दीवारें, हिंदू-मुस्लिमों ने पेश की अनूठी मिसाल, मिलकर मनाया पर्व

  • Updated on 5/3/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल। ईद और भगवान परशुराम जयंती पर सांप्रदायिक सौहार्द की अनूठी मिसाल भी देखने को मिली। परशुराम जयंती कार्यक्रम में मुस्लिमों ने शिरकत कर भाईचारे का संदेश दिया। मुस्लिम युवाओं और बुजुर्गों ने ना सिर्फ भगवान परशुराम के चित्र पर पुष्प अर्पित किए बल्कि उनके जीवन से जुड़ी महत्वपूर्ण बातों को भी जाना। 

कार्यक्रम छोटा, मगर संदेश बड़ा
ऐसे में मजहबी दीवारें टूटती नजर आई। खास बात यह है कि यह आयोजन ऐसे क्षेत्र में था, जहां कुछ दिन पहले परशुराम द्वार पर स्टील के शब्दों से भगवान परशुराम का नाम अंकित करने का काम रूकवा दिया गया था। ईद और परशुराम जयंती पर हिंदू-मुस्लिम एकता का यह जीवंत उदाहरण गाजियाबाद शहर में दिखाई दिया। 

परशुराम के चित्र पर पुष्प अर्पित
कार्यक्रम से जुड़ी तस्वीरें अब सोशल मीडिया पर भी वायरल हो रही हैं। विजय नगर क्षेत्र के मवई गांव में मंगलवार को परशुराम जयंती कार्यक्रम आयोजित किया गया था। कार्यक्रम में मुस्लिमों की उपस्थिति ने सभी का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित किया। मुस्लिम समाज के युवा एवं बुजुर्गों ने भगवान परशुराम के चित्र पर पुष्प अर्पित किए। 

मुस्लिम युवा और बुजुर्ग पहुंचे
इसके अलावा परशुराम के जीवन के विषय में विस्तार से जानकारी ली। मुकुल शर्मा एडवोकेट के आवास पर यह कार्यक्रम रखा गया था। मुकुल शर्मा का कहना है कि इस दौरान ब्राह्मण और जाटव समाज के अतिरिक्त मुस्लिम समाज के नागरिक भी आमंत्रित किए गए थे। परशुराम को विष्णु भगवान का छठा अवतार माना जाता है। 

ब्राह्मण समाज भी दिखा उत्साहित
जिन्होंने सर्वसमाज के हित में कार्य किया था। इस अवसर पर सुखपाल शर्मा, ब्रह्मदत्त शर्मा, कालू पंडित, राकेश शर्मा, त्रिलोक शर्मा, गुरदत्त शर्मा, हरिओम गुप्ता, रामअवतार शर्मा, जोगेंद्र जाटव, शानू खान, शमशाद, फजर खान, माशूक अली, अमन खान, शिवकुमार शर्मा व रविंद्र शर्मा आदि मौजूद रहे। 

प्रवेश द्वार को लेकर उभरा था विवाद
बता दें कि मवई के प्रवेश द्वार का नामकरण भगवान परशुराम के नाम पर है। कुछ दिन पहले इस द्वार पर स्टील के शब्दों से परशुराम द्वार अंकित करने का काम रूकवा दिया गया था। कांग्रेस पार्षद पर इस काम में अड़ंगा लगाने का आरोप भाजपाइयों ने लगाया था। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.