Sunday, Jul 03, 2022
-->
bsp mayawati supported bharat bandh of farmers movement after left parties rkdsnt

वामदलों के बाद बसपा प्रमुख मायावती ने किया किसानों के ‘भारत बंद’ का समर्थन

  • Updated on 9/26/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। वामदलों के बाद बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने तीन कृषि कानूनों के खिलाफ संयुक्त किसान मोर्चा के ‘भारत बंद’ का समर्थन करते हुए केंद्र सरकार से इन कानूनों को वापस लेने की मांग की है।

पंजाब में चन्नी कैबिनेट का विस्तार, राणा गुरजीत, रजिया सुल्ताना ने ली शपथ

बसपा प्रमुख ने रविवार को ट्वीट किया, ‘‘केन्द्र द्वारा जल्दबाजी में बनाए गए तीन कृषि कानूनों से असहमत और दुखी देश के किसान इनकी वापसी की मांग को लेकर लगभग 10 महीने से पूरे देश व खासकर दिल्ली के आसपास के राज्यों में आन्दोल कर रहे हैं और उन्होंने सोमवार को ‘भारत बंद’ का आह्वान किया है जिसके शांतिपूर्ण आयोजन को बसपा का समर्थन।’’ 

रोहिणी अदालत गोली कांड : AAP और कांग्रेस ने अमित शाह पर साधा निशाना

अपने सिलसिलेवार ट्वीट में मायावती ने कहा, ‘‘साथ ही, केन्द्र सरकार से पुन: अपील है कि वह किसान समाज के प्रति उचित सहानुभूति व संवेदनशीलता दिखाते हुए तीनों विवादित कृषि कानूनों को वापस ले तथा आगे उचित सलाह-मशविरा व इनकी सहमति से नया कानून लाए ताकि इस समस्या का समाधान हो। अगर किसान खुश व खुशहाल होंगे तो देश खुश व खुशहाल होगा।’’ 

लालू यादव ने भाजपा-आरएसएस पर पिछड़े वर्गों से नफरत करने का आरोप लगाया 

गौरतलब है कि कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा ने पांच सितंबर को मुजफ्फरनगर की किसान महापंचायत में 27 सितंबर को ‘भारत बंद’ का एलान किया था। संयुक्त किसान मोर्चा ने पहले 25 सितंबर को ‘भारत बंद’ की घोषणा की थी। किसान मोर्चा ने कहा है कि 27 सितंबर को ‘भारत बंद’ के दौरान देश में सब कुछ बंद रहेगा। भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने महापंचायत को संबोधित करते हुए कहा कि तीन कृषि कानूनों के वापस लिए जाने तक वह अपना आंदोलन समाप्त नहीं करेंगे।

महंत नरेंद्र गिरि की आखिरी वसीयत को लेकर वकील ने किया दावा, उत्तराधिकारी का बताया नाम


 

comments

.
.
.
.
.