Saturday, Dec 03, 2022
-->
bsp mayawati tweet on labour day coronavirus lockdown uttar pradesh pragnt

Labour day: मायावती ने कहा- लॉकडाउन के कारण श्रमिकों की रोजी-रोटी पर छाया गहरा संकट

  • Updated on 5/1/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आज अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस (International Workers' Day) के अवसर पर उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी (BSP) की प्रमुख मायावती (Mayawati) ने कहा कि देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी और लाॅकडाउन (Lockdown) के कारण श्रमिकों की रोजी-रोटी पर अभूतपूर्व गहरा संकट छाया हुआ है। उन्होंने कहा कि ऐसे में केंद्र और राज्यों की कल्याणकारी सरकार के रूप में भूमिका बहुत ही जरूरी है।

योगी आदित्यनाथ ने स्वतंत्र प्रभार मंत्रियों से मांगे सुझाव, 23 पुलिसकर्मी भी निकले पॉजिटिव

मजदूरों पर गहरा संकट छाया हुआ है: मायावती
मायावती ने एक ट्वीट में कहा, 'अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस जिसे मई दिवस के रूप में मजदूर व मेहनतकश वर्ग हर वर्ष धूमधाम से मनाते हैं परन्तु वर्तमान कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन के कारण उनकी रोजी-रोटी पर अभूतपूर्व गहरा संकट छाया हुआ है। ऐसे में केंद्र और राज्यों की कल्याणकारी सरकार के रूप में भूमिका बहुत ही जरूरी है।

UP: सामने आई बुलंदशहर के 2 साधुओं की पोस्टमार्टम रिपोर्ट, हुआ ये खुलासा

केंद्र और राज्य सरकारों से की अपील
उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, 'इसलिए केंद्र और राज्य सरकारों से अपील है कि वे करोड़ों गरीब मजदूरों और मेहनतकश परिवार वालों के जीवनदायी हितों की रक्षा में सार्थक कदम उठाएं और उन बड़ी निजी कंपनियों का भी संज्ञान लें जो केवल अपना मुनाफा बरकरार रखने के लिए कर्मचारियों के वेतन में मनमानी कटौती कर रही हैं।'

लॉकडाउन में फंसे UP के कामगारों से CM योगी की अपील, सबको वापस लाएंगे

प्रवासी मजदूरों से छिन गई है रोजी
बता दें कि इस लॉकडाउन के कारण दिल्ली-मुंबई जैसे बड़े शहरों में रहने वाले प्रवासी मजदूरों बहुत बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं। इनकी रोजी रोटी इनसे छिन गई है। इन्हें सरकार द्वारा बनाए गए शेल्टर होम में रहना पड़ रहा है। लॉकडाउन की घोषणा होते ही इन लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। 

लॉकडाउन में फंसे मजदूरों, छात्रों के लिए खुशखबरी, मोदी सरकार ने तैयार की गाइडलाइन

लॉकडाउन में फंसे UP के कामगारों से CM योगी की अपील
इससे पहले गुरुवार को लॉकडाउन के कारण दूसरे राज्यों में फंसे उत्तर प्रदेश के कामगारों और मजदूरों से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने भावुक अपील करते हुए कहा कि वे सब्र रखें और सरकार उन्हें उनके घर तक पहुंचाने की विस्तृत कार्ययोजना तैयार कर रही है। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर गठित 'टीम-11' के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक के दौरान सभी राज्यों में फंसे उत्तर प्रदेश के कामगारों और श्रमिकों से भावुक अपील की। योगी ने कहा कि इन कामगारों ने अभी तक जिस धैर्य का परिचय दिया है, उसे बनाए रखें।

लॉकडाउन में फंसे गांव जाने के इच्छुक गृहमंत्रालय की इन गाइडलाइन्स पर जरुर करें गौर

श्रमिकों की घर वापसी के लिए सभी राज्यों को लिखा पत्र
संबंधित राज्यों की सरकारों से संपर्क कर सभी को घरों तक सुरक्षित पहुंचाने की विस्तृत कार्ययोजना तैयार की जा रही है, इसलिए वे जहां हैं वहीं रहें। संबंधित राज्य सरकारों के संपर्क में रहें और कतई पैदल ना चलें। उन्होंने कहा कि श्रमिकों को घर वापस लाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने संबंधित सभी राज्यों को पत्र लिखकर उनका नाम, पता, मोबाइल नंबर और मेडिकल रिपोर्ट समेत विस्तृत विवरण मांगा है।

मोहन भागवत, पीएम मोदी की नसीहतों का भाजपा नेताओं पर ही असर नहीं!

6 लाख लोगों के लिए तैयार पृथक-वास केंद्र
प्रवक्ता ने बताया कि दूसरे राज्यों से आने वाले कामगारों और श्रमिकों को उनके घरों तक सुरक्षित पहुंचाने की प्रक्रिया में मुख्यमंत्री योगी ने राजस्व विभाग से 6 लाख लोगों के लिए पृथक-वास केंद्र, आश्रय केंद्र और सामुदायिक रसोई तैयार कराए हैं।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.