Monday, Jun 21, 2021
-->
bsp mlas allege fake signature on rajya sabha candidate nomination in up sohsnt

यूपी में BSP विधायकों की बगावत: राज्यसभा प्रत्याशी के नामांकन पर फर्जी हस्ताक्षर का लगाया आरोप

  • Updated on 10/28/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश में राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha election) से पहले  बहुजन समाज पार्टी (BSP) को बड़ा झटका लगा है। पार्टी के छह विधायकों ने बगावत कर दी है। इन विधायकों ने राज्यसभा चुनाव के लिये पार्टी प्रत्याशी के नामांकन में प्रस्तावक के तौर पर किये गये अपने हस्ताक्षरों को फर्जी बताते हुए बुधवार को पीठासीन अधिकारी को एक शपथपत्र दिया।

बिहार चुनाव : मतदान केंद्र पर गए RJD विधायक पर जनता ने खदेड़ा, की पत्थरबाजी

विधायकों ने हस्ताक्षर बताए फर्जी
बसपा विधायक असलम चौधरी, मुज्तबा सिद्दीकी, हाकिम लाल बिंद और असलम राइनी ने पीठासीन अधिकारी को दिये गये शपथपत्र में कहा है कि राज्यसभा चुनाव के लिये बसपा के प्रत्याशी रामजी गौतम के नामांकन पत्र पर प्रस्तावक के तौर पर किये गये उनके हस्ताक्षर फर्जी हैं। उनके साथ विधायक सुषमा पटेल और हरिगोविंद भार्गव भी थे।

बिहार चुनाव: इस चुनाव केंद्र पर था नक्सलियों का खौंफ लेकिन आज मतदाताओं की लगी लंबी कतार

नामांकन पत्रों की हो रही है जांच
आगामी नौ नवम्बर को होने वाले राज्यसभा चुनाव के लिये नामांकन पत्रों की आज जांच की जा रही है। सूत्रों के मुताबिक पीठासीन अधिकारी इन बसपा विधायकों की शिकायत पर गौर करके उचित निर्णय लेंगे। गौरतलब है कि पर्याप्त संख्याबल नहीं होने के बावजूद बसपा ने पार्टी के राष्ट्रीय समन्वयक और बिहार इकाई के प्रभारी रामजी गौतम को राज्यसभा चुनाव में उम्मीदवार बनाया है। गौतम ने गत सोमवार को नामांकन दाखिल किया था।     

जब बिहार चुनाव में राहुल गांधी ने मोदी और नीतीश को पकौड़ा खिलाने की बात कही

भाजपा ने जारी की उम्मीदवारों की सूची
वहीं दूसरी ओर भाजपा ने राज्यसभा की 11 सीटों के लिए बीते सोमवार को उम्मीदवारों की सूची जारी कर दी है। उत्तर प्रदेश  में 9 नवंबर को राज्यसभा की 10 सीटों पर होने वाले द्विवार्षिक चुनाव के लिए सोमवार को नौ उम्मीदवारों की सूची जारी कर दी गई है। भाजपा ने जिन उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया है उनमें प्रदेश से हरदीप सिंह पुरी, अरुण सिंह, हरिद्वार दूबे, बृजलाल, नीरज शेखर, गीता शाक्य, बीएल वर्मा और सीमा द्विवेदी के नाम शामिल है। राज्यसभा के चुनाव में उत्तर प्रदेश में संख्या बल के आधार पर आठ सीटों पर भाजपा की एकतरफा जीत दिख रही है, जबकि एक सीट आराम से सपा को मिल जाएगी।

भाजपा MLA की प्रियंका गांधी को चिट्टी, पूछा- मुख्तार अंसारी जैसे दुर्दांत को क्यों बचा रहीं?

37 विधायकों के मतों को प्राप्त करना जरूरी
कांग्रेस और सुहेलेदेव भारतीय समाज पार्टी जैसे दल साथ मिलकर चुनाव जीतने की स्थिति में नहीं हैं। उत्तर प्रदेश कोटे से राज्यसभा में 25 नवंबर को रिक्त होने वाली दस सीटों में इस समय भाजपा के पास तीन, सपा के पास चार, बसपा के पास दो और कांग्रेस के पास एक सीट है। विधानसभा सचिवालय के एक अधिकारी के मुताबिक, 403 सदस्यों वाले सदन में मौजूदा समय में 395 सदस्य हैं। राज्यसभा सीट जीतने के लिए एक उम्मीदवार को 37 विधायकों के मतों को प्राप्त करना जरूरी है।

बिहार में चल रही है पहले दौर की वोटिंग, राहुल बोले- महागठबंधन को करो वोट, बीजेपी ने जताया विरोध

जानें किस पार्टी के हैं कितने सदस्य
सदन में भाजपा के 304 और सपा के 48 सदस्यों के अलावा बसपा के 18, अपना दल के नौ, कांग्रेस के सात, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के चार और अन् य छोटे दलों समेत पांच निर्दलीय विधायक हैं। उत्तर प्रदेश के कोटे से 25 नवंबर को सेवानिवृत्त हो रहे 10 राज्यसभा सदस्यों में भाजपा के तीन -केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी, अरुण सिंह और नीरज शेखर शामिल हैं। समाजवादी पार्टी के प्रोफेसर राम गोपाल यादव, चंद्रपाल सिंह यादव, राम प्रकाश वर्मा और जावेद अली खान और बसपा के राजाराम और वीर सिंह का कार्यकाल समाप्त हो रहा है

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.