Sunday, Jan 23, 2022
-->
budget 202 deputy cm manish sisodia said bjp cheated delhi pragnt

Budget 2021: डिप्टी CM मनीष सिसोदिया ने कसा तंज, कहा- BJP ने दिल्ली के साथ किया धोखा

  • Updated on 2/1/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने आज संसद में 2021-22 का बजट (Union Budget 2021) पेश किया। मोदी सरकार के इस बजट को लेकर दिल्ली (Delhi) के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बीजेपी पर हमला बोला है। मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने बजट को छलावा बताते हुए कहा कि इस बजट में केंद्र सरकार ने दिल्ली के साथ धोखा किया है। दिल्ली को सिर्फ 325 करोड़ रुपए दिए हैं। दिल्ली को पिछले 17 सालों से केंद्र सरकार 325 करोड़ रुपए देती आई हैं। एक रुपए भी नहीं बढ़ाया। उम्मीद थी कोरोना काल में पैसा बढ़ाकर दिया जाएगा।

Budget 2021: नई स्क्रैप पॉलिसी से FDI में छूट तक, जानें बजट की 10 बड़ी बातें

BJP सरकार ने दिल्ली को किया निराश
डिप्टी सीएम ने ट्वीट कर लिखा, 'बीजेपी की केंद्र सरकार ने बजट में दिल्ली को फिर निराश किया है। दिल्ली को बजट में केवल 325 करोड़ मिले है जबकि दिल्ली के लोग 1.5 लाख करोड़ का टैक्स केंद्र को देते हैं।' सिसोदिया ने कहा, 'बीजेपी की सरकार ने बीजेपी शासित एमसीडी को भी एक भी रुपया नहीं दिया, जबकि देश भर के नगर निगमों के लिए 2 लाख करोड़ रुपए दिए हैं। एमसीडी चुनाव के वक्त बीजेपी ने कहा था कि वे केंद्र से सीधे एमसीडी को पैसा लाएंगे।'

Budget 2021: 75 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों को बड़ी राहत, नहीं भरना होगा ITR

आत्मनिर्भर बनाने की बात केवल जुमला- डिप्टी CM
उन्होंने अन्य ट्वीट में लिखा, 'नई शिक्षा नीति (NEP) का इतना ढोल बजाने के बाद, बजट में शिक्षा का बजट पिछले साल से 6000 करोड़ कम कर दिया है। (NEP में शिक्षा बजट जीडीपी का कम से कम 6 फीसदी करने की नीति बताई गई है।) बजट में साफ बता दिया गया है कि नई शिक्षा नीति बीजेपी के लिए केवल एक जुमला भर थी।' उपमुख्यमंत्री ने लिखा, 'इतिहास गवाह है कि परिवार हों या देश, आत्मनिर्भर वही बनता है जो अपने बच्चों की अच्छी शिक्षा पर खर्च करता है। यहां तो शिक्षा का बजट 6000 करोड़ कम किया जा रहा है। बच्चे पढ़ेंगे नहीं तो देश आत्मनिर्भर कैसे होगा? आत्मनिर्भर बनाने की बात भी केवल जुमला ही है।'

Union Budget 2021-22: लेह में खुलेगा केंद्रीय विश्वविद्यालय, जानें शिक्षा को और क्या मिला

लेह में सेंट्रल यूनिवर्सिटी का प्रस्ताव
बता दें कि आम बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीताराम ने 15,000 से अधिक स्कूलों को राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) के तहत गुणात्मक रूप से मजबूत बनाने की घोषणा की। उच्च शिक्षा के लिए 100 नए सैनिक स्कूल बनाए जाएंगे और अन्य 'छत्र' संरचनाएं बनाई जाएंगी। इसके साथ ही राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) तहत लद्दाख में उच्च शिक्षा स्थापित के लिए केंद्र स्थापित किए जाएंगे और लेह में एक केंद्रीय विश्वविद्यालय स्थापित किया जाएगा। 

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा- ये बजट 'आपदा में है अवसर' की तरह

साल 2020 में शिक्षा को मिले थे 99300 करोड़
कोरोना के कारण शिक्षा को हुए नुकसान के बारे में बताते हुए केंद्रीय वित्तमंत्री ने तहा कि साल 2020 शिक्षा के मामले में विनाशकारी वर्षों में से एक रहा है, COVID-19 महामारी ने स्कूलों और कॉलेजों को बंद कर दिया और छात्रों को ऑनलाइन शिक्षण विधियों के लिए बाध्य होना पड़ा। साल 2020 में पेश हुए आम बजट में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने पूरे एजुकेशन सेक्टर के लिए 99300 करोड़ रुपये आवंटित किए थे। वहीं स्किल डेवलपमेंट के लिए अलग से 3000 करोड़ रुपये आवंटित किए गए थे। 

सरकार के 5 ट्रिलियन के टारगेट से अभी कितनी दूर है अर्थव्यवस्था

अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत
वहीं वित्त मंत्री ने अपने बजट भाषण में कहा कि आत्मनिर्भर भारत में खास तीन योजनाएं है, बजट में आत्मनिर्भर भारत का विजन सबको शिक्षा देने की योजना है। सरकार का आर्थिक पैकेज GDP का 13% अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत। वहीं वित्त मंत्री ने ऑस्ट्रेलिया में टीम इंडिया की जीत का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा आर्थिक मंदी के बारे में सोचा नहीं था 2021 में कई कदम उठाएंगे। उन्होंने कहा इस बार27 लाख करोड़ लोगों को आर्थिक पैकेज दिया है।

यहां पढ़ें बजट 2021 से जुड़ी बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.