Thursday, Feb 27, 2020
caa protest crores of rupees transferred through pfi bank

CAA Protest के दौरान PFI ने 4 वकीलों को ट्रांसफर किए करोड़ों! कपिल सिब्बल का भी नाम

  • Updated on 1/27/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देशभर में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ हिंसक विरोध प्रदर्शन जारी है। इस बीच एक बड़ा खुलासा हुआ है जिसके अनुसार इस आंदोलन के दौरान कांग्रेस पार्टी के एक नेता के अकाउंट में बड़ी राशि ट्रांसफार की गई। एक न्यूज चैनल पर चल रही खबर के अनुसार CAA आंदोलन के दौरान उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में जो हिंसा हुई थी उसके तार पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) के साथ जुड़े हुए हैं। इसका मतलब है कि सीएए के खिलाफ हिंसा फैलाने के लिए आरोपी पीएफआई के साथ सीधे संपर्क में थे।

दरअसल, गृहमंत्रालय की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि PFI के 73 बैंक खातों से 120 करोड़ का लेन- देन का इस्तेमाल सीएए विरोध-प्रदर्शन के लिए हुआ है। इस लेन- देन में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) की वरिष्ठ वकील के साथ- साथ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता का नाम भी शामिल हैं। 

CAA Protest: PFI ने UP में भड़काई थी हिंसा, प्रदेश प्रमुख सहित 16 कार्यकर्ता गिरफ्तार

दंगों की फंडिंग PFI ने की
न्यूज चैनल की खबर के अनुसार, पीएफआई के बैंक अकाउंट से देश के कई नामचीन वकीलों को पैसे ट्रांसफर किए गए हैं। इनमें कांग्रेस (Congress) के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) को इस बैंक के जरिए 77 लाख ट्रांसफर किए गए। सुप्रीम कोर्ट की वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह (Indira Jaising) को 4 लाख रुपए दिए गए। वहीं दंगों के दौरान PFI की कश्मीर यूनिट को भी 1.65 करोड़ दिए गए। जांच के दौरान पीएफआई के कुल 73 बैंक खातों का पता चला है।

पश्चिमी यूपी के कई बैंकों में जमा किए गए पैसे
रिपोर्ट के अनुसार, ईडी की रिपोर्ट में पता चला है कि दिसंबर में CAA के पास होने के बाद पश्चिम यूपी के हिंसाग्रस्त इलाकों हराइच, बिजनौर, हापुड़, बहराइच, शामली और डासना के कई बैंक अकाउंट में पैसे भेजे गए थे। जब इस मामले की जांच की गई तो पता चला कि पीएफआई के 73 बैंक अकाउंट से दो से तीन दिन के अंदर करीब 120 करोड़ रुपये जमा किए गए और उनको फौरन निकाल भी लिया गया है।

बंगाल विधानसभा में CAA के खिलाफ पेश होगा प्रस्ताव, ममता को मिला कांग्रेस-लेफ्ट का समर्थन

कपिल सिब्बल को दी गई बड़ी रकम
इस खुलासे के मुताबिक पीएफआई के बैंक अकाउंट से कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल को 77 लाख रुपये, वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह को 4 लाख, दुष्यंत दवे को 11 लाख और अब्दुल समर (एनआईए की चार्जशीट में नाम) 3 लाख रुपये दिए गए थे।

इसकी जांच होनी चाहिए- BJP
इस खुलासे के बाद बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि अगर इतने बड़ा लेन-देन किसी खास दिन हुआ है तो इसकी जांच जरूर होनी चाहिए।

CAA का विरोधः दिल्ली के जामिया नगर में हुई हिंसा में  PFI की भूमिका

PFI ने UP में भड़काई थी हिंसा
इससे पहले पिछले साल दिसंबर में उत्तर प्रदेश पुलिस ने सोमवार को कहा था कि सीएए के खिलाफ राजधानी लखनऊ में हुई हिंसा के मामले में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के प्रदेश प्रमुख और 16 अन्य कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने बताया कि लखनऊ में गत 19 दिसम्बर को हुए हिंसक प्रदर्शन के मामले में संगठन के प्रदेश प्रमुख वसीम को गिरफ्तार कर लिया गया है।

प्रदर्शन के दौरान भीड़ को कथित तौर पर भड़काने के लिए 19 दिसंबर के बाद से पश्चिमी उत्तर प्रदेश के शामली जिले में पीएफआई के 14 सदस्यों सहित 28 लोगों को गिरफ्तार किया गया। शामली के एसपी विनीत जयसवाल ने बताया, ‘पीएफआई के सदस्य मोहम्मद शादाब सहित पीएफआई के कुल 14 सदस्यों को गिरफ्तार किया गया। दो लोग वांछित हैं। जिले में 14 अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.