Sunday, Dec 04, 2022
-->
caba-meeting-will-now-take-place-after-2014

साल 2014 के बाद अब होगी काबा की मीटिंग

  • Updated on 6/13/2022

नई दिल्ली। टीम डिजिटल। साल 2014 के बाद भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) की सेंट्रल एडवाइजरी बोर्ड ऑफ आर्कियोलॉजी (काबा) की मीटिंग आज यानि 14 जून को 7 साल बाद करने जा रहा है। यह काबा की 37वीं मीटिंग होगी। काबा का गठन साल 1945 में भारतीय संविधान के अनुसार किया गया था। काबा का कार्यकाल 3 वर्ष का होता है। बता दें कि काबा एक ऐसा बोर्ड है जो ऐतिहासिक महत्व की साईटों, इमारतों, संग्रहालयों के रख-रखाव सहित खुदाई व संरक्षण जैसे एएसआई के कार्यों के लिए राज्यों के संस्कृति सचिवों के साथ मिलकर केंद्र सरकार को अनुशंसा करती है। सही मायनों में कहा जाए तो एएसआई के भविष्य को तय करने का काम काबा द्वारा किया जाता है।
विश्व बालश्रम निषेध दिवस पर 75 स्थानों पर एनसीपीसीआर चलाएगा बचाव अभियान 

एएसआई के फ्यूचर प्लान होंगे काबा की बैठक में तय
मंगलवार को होने वाली काबा की एकदिवसीय मीटिंग में आर्कियोलॉजिक्ल प्रिंसिपल, ट्रेनिंग फयूचर आर्कियोलॉजिस्ट व देशभर की राज्य सरकारों द्वारा लाई गईं 37 रेज्यूलेशन पर चर्चा की जाएगी। इस दौरान केंद्रीय संस्कृति व पर्यटन मंत्री जी.किशन रेड्डी, संस्कृति राज्यमंत्री अर्जुनराम मेघवाल व मीनाक्षी लेखी सहित संस्कृति सचिव, यूजीसी चेयरमैन, नेशनल म्यूजियम के महानिदेशक, महानिदेशक एएसआई, पूर्व महानिदेशक एएसआई सहित सभी राज्यों के संस्कृति सचिव, स्टेट आर्कियोलॉजी डिपार्टमेंट के डायरेक्टर्स भी उपस्थित रहेंगें। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.