cam scanner app can harm your smart phone

Android Warning मालवेयर से प्रभावित है Cam Scanner एप

  • Updated on 8/29/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अगर आप भी स्मार्टफोन के जरिए कागजात को स्कैन करने के लिए Cam Scanner एप का उपयोग करते हैं तो यह खबर खास तौर पर आपके लिए है। दुनिया भर में करोड़ों यूजर्स इस एप का उपयोग कर रहे हैं लेकिन अब रिपोर्ट सामने आई है कि यह एप मालवेयर से प्रभावित है जिससे आपको काफी नुक्सान पहुंच सकता है। 

प्लूटो के ग्रह होने पर छिड़ा विवाद, NASA चीफ ने कही ये बात

मालवेयर से प्रभावित एप
साइबर सिक्योरिटी कम्पनी Kespersky के रिसर्चर्स ने पता लगाया है कि फोन बेस्ड PDF क्रिएटर Cam Scanner एप में OCR (ऑप्टिकल कैरेक्टर रिकॉग्निशन) फीचर मिलता है। इस फीचर की फाइल्स डाऊनलोड होते- होते साथ में मलीशियस मॉड्यूल वाली एडवर्टाइजिंग लाइब्रेरी भी डाऊनलोड हो रही है जोकि स्मार्टफोन को मालवेयर से प्रभावित कर देती है।

JNU छात्रसंघ चुनाव: उम्मीदवारों की सूची जारी, 6 सितंबर को डाले जाएंगे वोट

समय के साथ-साथ खतरनाक होती गई एप
रिसर्चर्स का कहना है कि Cam Scanner एप काफी काम की है। समय के साथ-साथ इस एप में डिवैल्पर्स द्वारा विज्ञापन भी दिखाए गए और इससे पैसे कमाए गए, वहीं इन-एप परचेज के जरिए इसके डिवैल्पर्स ने एडीशनल रैवेन्यू भी जनरेट किया है लेकिन अब तो इस एप में मलीशियस मॉड्यूल 'Trojan Dropper' पाया गया है जो स्मार्टफोन में मालवेयर इंस्टॉल करता है। इसके जरिए बैंकिंग डिटेल्स चुराने से लेकर फेक विज्ञापनों पर क्लिक करवाने और फेक सब्सक्रिप्शंस के लिए साइन-अप करवाने जैसे काम किए जाते हैं। रिसर्चर्स ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि समस्या के सामने आने के बाद Cam Scanner ने अपने नए वर्जन में इस मालवेयर से प्रभावित मॉड्यूल को हटा दिया है लेकिन इसके कई वर्जन मौजूद हैं और हो सकता है कि उनमें अभी मलीशियस कोड मौजूद हो। 

कश्मीर के हालात के लिए जिम्मेदार हैं जवाहर लाल नेहरू- मायावती

प्ले स्टोर की सुरक्षा को लेकर गूगल ने शुरू की तैयारियां
प्ले स्टोर की सुरक्षा को बढ़ाने के लिए गूगल ने मालवेयर से प्रभावित एप्स को स्कैन करने और उन्हें हटाने के लिए नया मकैनिज्म तैयार करना शुरू कर दिया है। गूगल ने वर्ष 2018 में च्गूगल प्ले प्रोटैक्टज् गार्ड डिजाइन किया था जिसको लेकर कम्पनी का दावा है कि यह मलीशियस एप्स को तेजी से स्कैन करता है और हटाता है। अब गूगल नई एप को प्ले स्टोर पर पब्लिश करने से पहले उन्हें स्कैन कर रहा है और इसके लिए 3 दिन का समय लगता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.