Monday, Mar 01, 2021
-->
canada justin trudeau on india farmers protest said supporting farmers right to protest pragnt

ट्रूडो ने फिर दिया किसानों का साथ, कहा- किसानों के प्रदर्शन करने के अधिकार को मेरा समर्थन

  • Updated on 12/5/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत (India) में नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ बीते कई दिनों से बड़ी संख्या में किसान आंदोलन कर रहे हैं। इस बीच कनाडा (Canada) ने एक बार फिर किसान आंदोलन (Farmers Protest) को लेकर भारत के आंतरिक मामले में दखलंदाजी की है। किसानों आंदोलन के संबंध में कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो (Justin Trudeau) ने कहा कि कनाडा इस आंदोलन का समर्थन करता है। बता दें कि इससे पहले भी जस्टिन ट्रूडो ने भारत में किसानों के विरोध प्रदर्शन का समर्थन किया था और कहा था कि उनका देश शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन का हमेशा समर्थन करेगा। उन्होंने हालात पर चिंता भी जताई थी। 

राहुल गांधी ने कहा- बिना MSP के मुसीबत में थे बिहार के किसान, अब PM ने पूरे देश को इसी खतरे में डाला

भारत सरकार ने लगाई कनाडा को फटकार
मालूम हो कि भारत ने शुक्रवार को कनाडा के उच्चायुक्त को तलब कर कहा कि किसानों के आंदोलन के संबंध में कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो और वहां के कुछ अन्य नेताओं की टिप्पणी देश के आंतरिक मामलों में एक अस्वीकार्य हस्तक्षेप के समान है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि कनाडाई राजनयिक से यह भी कहा गया गया कि ऐसी गतिविधि अगर जारी रही तो इससे द्विपक्षीय संबंधों को 'गंभीर क्षति' पहुंचेगी।

किसानों को दिल्ली बॉर्डर से हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर

कनाडा हमेशा साथ रहेगा
ट्रूडो ने भारत में आंदोलन कर रहे किसानों का समर्थन करते हुए कहा था कि शांतिपूर्ण विरोध के अधिकारों की रक्षा के लिए कनाडा हमेशा साथ रहेगा। इसके साथ ही उन्होंने स्थिति पर चिंता जतायी थी। विदेश मंत्रालय ने कहा कि कनाडाई उच्चायुक्त को आज विदेश मंत्रालय में तलब किया गया और सूचित किया गया कि भारतीय किसानों से संबंधित मुद्दों पर कनाडाई प्रधानमंत्री, कुछ कैबिनेट मंत्रियों और सांसदों की टिप्पणी हमारे आंतरिक मामलों में अस्वीकार्य हस्तक्षेप के समान है। इसके साथ ही एक दूत को आपत्ति पत्र भी सौंपा गया।     

Farmers Protest: कांग्रेस ने किया दावा, समाज के सभी वर्गों के खिलाफ हैं कृषि संबंधी कानून

हमारे सामने भीड़ जुटी हुई है
विदेश मंत्रालय ने कहा कि किसानों के मुददे पर कनाडा के नेताओं द्वारा की गई टिप्पणी की वजह से कनाडा में हमारे मिशन के सामने भीड़ जमा हुई जिससे सुरक्षा का मुद्दा खड़ा होता है। विदेश मंत्रालय ने कहा, Þहम उम्मीद करते हैं कि कनाडाई सरकार भारतीय राजनयिकों की पूर्ण सुरक्षा सुनिश्चित करेगी। इससे पहले कनाडा के रक्षा मंत्री हरजीत सज्जन ने भी भारतीय किसानों के आंदोलन पर टिप्पणी की थी।   

किसान आंदोलन के समर्थन में उतरे पंजाबी गायक हरभजन मान, ठुकराया पुरस्कार

सज्जन ने रविवार को किया था ट्वीट
भारतीय मूल के सज्जन ने रविवार को ट्वीट किया था कि भारत में शांतिपूर्ण प्रदर्शन को कुचलने की खबरें बहुत परेशान करने वाली हैं। मेरे कई मतदाताओं के परिवार वहां रहते हैं और वे अपने करीबी लोगों की सुरक्षा को लेकर ङ्क्षचतित हैं। स्वस्थ लोकतंत्र में शांतिपूर्ण प्रदर्शन की अनुमति होती है। मैं इसमें शामिल लोगों से आग्रह करता हूं कि वे इस मौलिक अधिकार को बनाए रखें। तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब, हरियाणा और कई अन्य राज्यों के हजारों किसान दिल्ली की सीमाओं पर पिछले नौ दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं, इस मुद्दे पर किसानों और केंद्र सरकार के बीच बातचीत चल रही है। 

यहां पढ़े 10 अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.