Saturday, Jul 21, 2018

खाली कुर्सियां देख बिना संबोधित किए लौटे कैप्टन

  • Updated on 2/11/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सिख कौम के महान जरनैल महाराजा रणजीत सिंह के सबसे बहादुर सेनापतियों में से एक व वर्ष 1846 में सभरावां की जंग में अंग्रेजों के साथ लोहा लेते हुए शहादत का जाम पीने वाले शाम सिंह अटारीवाला के 172वें शहीदी दिवस पर आयोजित राज्यस्तरीय समागम में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह 12 वर्ष बाद उपस्थित तो हुए लेकिन जनता को संबोधित किए बिना ही लौट गए।

जूडो फेडरेशन की कमान संभालेंगे प्रताप सिंह बाजवा

जानकारी के अनुसार प्रशासन द्वारा शहीद जनरल शाम सिंह अटारीवाला की प्रतिमा गेटवे ऑफ अमृतसर और शहीद अटारी वाला के समाधि स्थल पर स्टेज व जनता के बैठने के लिए कुर्सियां लगाई गई थीं लेकिन कुर्सियां खाली दिखने पर कैप्टन बिना संबोधित किए वापिस लौट गए जिससे वे गिने-चुने लोग जो मुख्यमंत्री का भाषण सुनने आए थे, काफी नाराज नजर आए। 

इस संबंध में जनरल शाम सिंह अटारी वाला ट्रस्ट के चेयरमैन कर्नल हरिन्द्र सिंह अटारी ने कहा कि मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह अपना वायदा निभाते हुए राज्य स्तरीय समागम में शामिल हुए पर समय कम होने के कारण वह जनता को संबोधित नहीं कर सके। वह गेटवे ऑफ अमृतसर व शहीद जनरल शाम सिंह अटारी वाला के समाधि स्थल पर कुछ ही समय दे सके लेकिन अपनी उपस्थिति से उन्होंने यह साबित कर दिया है कि वह अपने देश के शहीदों का दिल से सम्मान करते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.