Saturday, Nov 17, 2018

CBI डायरेक्टर वर्मा, स्पेशल डायरेक्टर अस्थाना CVC से मिले, रखा अपना पक्ष

  • Updated on 11/8/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के निदेशक आलोक वर्मा गुरुवार को केंद्रीय सतर्कता आयुक्त (सीवीसी) के वी चौधरी से मिले और उन्होंने जांच एजेंसी के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना द्वारा उन पर लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों से इंकार किया। अधिकारियों ने बताया कि वर्मा दोपहर में केन्द्रीय सतर्कता आयोग के कार्यालय पहुंचे और वहां करीब दो घंटे रूके।  

नोटबंदी के दो साल : पी. चिदंबरम ने साधा अरुण जेटली पर निशाना

उन्होंने कहा कि उन्होंने चौधरी और सतर्कता आयुक्त शरद कुमार से मुलाकात की। अधिकारियों ने कोई अन्य जानकारी नहीं दी। सुप्रीम कोर्ट ने 26 अक्टूबर को केन्द्रीय सतर्कता आयोग से अस्थाना द्वारा वर्मा पर लगाए गए आरोपों की जांच दो सप्ताह के भीतर करने को कहा था। वर्मा और अस्थाना को केन्द्र सरकार ने छुट्टी पर भेजा हुआ है। अधिकारियों ने कहा कि अस्थाना ने भी सीवीसी चौधरी से मुलाकात की।

रघुराम राजन का RBI को लेकर मोदी सरकार पर बड़ा हमला

उन्होंने कहा कि आयोग ने हाल में अहम मामलों की जांच कर रहे सीबीआई के कुछ अधिकारियों से पूछताछ की थी। इन अधिकारियों के नाम सीबीआई प्रमुख वर्मा के खिलाफ भ्रष्टचार की अस्थाना की शिकायत में सामने आए थे। अधिकारियों ने कहा कि निरीक्षक से पुलिस अधीक्षक रैंक के सीबीआई अधिकारियों को बुलाया गया और एक वरिष्ठ सीवीसी अधिकारी के सामने उनका बयान दर्ज किया गया।

मनोज तिवारी को लेकर केजरीवाल सरकार सख्त, केस दर्ज कराने का निर्देश

जिन अधिकारियों के बयान दर्ज किये गये उनमें मोइन कुरैशी रिश्वत मामला, पूर्व रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव से जुड़े आईआरसीटीसी घोटाला, मवेशी तस्करी मामला संभालने वाले अधिकारी भी शामिल हैं। सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिया था कि वर्मा के खिलाफ आरोपों की सीवीसी की जांच की निगरानी शीर्ष अदालत के सेवानिवृत्त न्यायाधीश न्यायमूॢत ए के पटनायक करेंगे। वर्मा ने उन्हें ड्यूटी से हटाने और छुट्टी पर भेजने के सरकार के फैसले को चुनौती दी थी।

नोटबंदी के दो साल: केजरीवाल बोले- मोदी सरकार के घोटालों की सूची अंतहीन

वर्मा और अस्थाना के बीच गतिरोध अस्थाना तथा अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने को लेकर हाल में बढ़ गया था। प्राथमिकी में पुलिस उपाधीक्षक देवेंद्र कुमार का भी नाम दर्ज था जिसमें कथित रिश्वत मामले में सीबीआई हिरासत में हैं। सीबीआई ने हैदराबाद के कारोबारी सना सतीश बाबू से दो करोड़ रुपये की रिश्वत कथित रूप लेने के लिए अस्थाना के खिलाफ 15 अक्टूबर को प्राथमिकी दर्ज की थी। 

चुनावी रेवड़ियां बांटने को RBI से करोड़ों रुपये चाहती है मोदी सरकार: कांग्रेस

कथित रिश्वत मांस कारोबारी मोइन कुरैशी के खिलाफ जांच प्रभावित करने के लिए दो बिचौलियों मनोज प्रसाद और सोमेश प्रसाद के जरिये दी गई थी। अस्थाना ने 24 अगस्त को कैबिनेट सचिव को दी शिकायत में वर्मा के खिलाफ आरोप लगाए थे कि उन्हें पूछताछ में मदद के बदले सना से दो करोड़ रुपये की रिश्वत मिली थी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.