बड़े बेआबरू होकर कोर्ट रूम से निकले CBI के पूर्व अंतरिम निदेशक नागेश्वर राव

  • Updated on 2/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सीबीआई के पूर्व अंतरिम निदेशक एम नागेश्वर राव और जांच एजेंसी के कानूनी सलाहकार एस भासुराम अवमानना के लिए दिनभर अदालत में बैठने की सजा काटकर अदालतीकक्ष से चले गए।

मनोहर पर्रिकर के बेटे को बॉम्बे हाई कोर्ट का नोटिस, कंपनी पर लगे हैं आरोप

शीर्ष अदालत ने बिहार आश्रय स्थल यौन उत्पीडऩ मामलों की जांच कर रहे सीबीआई के संयुक्त निदेशक ए के शर्मा का स्थानान्तरण करके उसके आदेश की जानबूझकर अवज्ञा करने पर उन्हें अवमानना का दोषी ठहराया था। 

मुख्य चुनाव आयुक्त ने VVPAT पर्चियों की काउंटिंग पर नहीं किया कोई वायदा

शर्मा को 17 जनवरी को सीआरपीएफ का अतिरिक्त महानिदेशक बनाया गया था। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, जस्टिस एल नागेश्वर राव और जस्टिस संजीव खन्ना की पीठ ने अपराह्न तीन बजकर 40 मिनट पर अवमानना करने वाले अधिकारियों को जाने की अनुमति देने के अटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल के दूसरे प्रयास को अस्वीकार कर दिया।

राहुल बोले- CAG रिपोर्ट 'चौकीदार ऑडिटर जनरल' की रिपोर्ट, महर्षि पर संदेह

पीठ ने सुबह इन अधिकारियों से कहा था, ‘‘न्यायालय के एक कोने की तरफ जाइए और इस अदालत के उठने तक बैठ जाइए।’’ शीर्ष अदालत ने राव को जाने की अनुमति देने के वेणुगोपाल के दूसरे प्रयास पर नाराजगी जताई। प्रधान न्यायाधीश ने कहा, ‘‘यह क्या है? क्या आप चाहते हैं कि हम उन्हें कल अदालत के उठने तक की सजा दें? जाइए और जहां बैठे थे वहीं बैठ जाइए।’’

मायावती के बाद अखिलेश को मिला केजरीवाल का साथ, BJP निशाने पर

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.