राकेश अस्थाना समेत CBI के 4 अधिकारियों के कार्यकाल में कटौती

  • Updated on 1/17/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आलोक वर्मा के जाने के बाद सीबीआई में अफसरों को लेकर अनिश्चिता की स्थिति बनी हुई है। एजेंसी में अधिकारियों के तबादलों और कार्यकाल को लेकर भी बदलाव देखने को मिल रहा है। आरोपी राकेश अस्थाना और CBI के तीन अधिकारियों के कार्यकाल को केंद्र की मोदी सरकार ने तत्काल प्रभाव से कम कर दिया है। 

मायावती ने भतीजे आकाश आनंद को लेकर मीडिया पर निकाली भड़ास

केंद्र की मोदी सरकार ने जबरन छुट्टी पर भेजे गए सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना का कार्यकाल तत्काल प्रभाव से कम कर दिया है। बृहस्पतिवार को जारी एक आधिकारिक आदेश में कहा गया कि सीबीआई के तीन अन्य अधिकारियों संयुक्त निदेशक अरुण कुमार शर्मा, उपमहानिरीक्षक मनीष कुमार सिन्हा और पुलिस अधीक्षक जयंत जे नाईकनवरे के कार्यकाल में भी कटौती की गई है।

चीफ जस्टिस गोगोई के निशाने पर क्यों आए प्रशांत भूषण?

ताजा आदेश ऐसे समय आया है जब कुछ दिन पहले आलोक वर्मा को सीबीआई निदेशक के पद से हटा दिया गया था और उन्हें दमकल, सिविल डिफेंस और होम गार्ड का महानिदेशक नियुक्त किया गया था। वर्मा ने नया पद लेने से इंकार कर दिया था और कहा था कि वह पुलिस सेवा से पहले ही सेवानिवृत्त हो चुके हैं।
 

CBI के नए चीफ की नियुक्ति के लिए मोदी सरकार ने तेज की कवायद

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली चयन समिति की बैठक अब जल्द होने वाली है। फिलहाल नागेश्वर राव सीबीआई के अंतरिम निदेशक बने हुए हैं। आलोक वर्मा के बाद सरकार को नए निदेशक की तलाश करनी है। इसको लेकर विपक्ष मोदी सरकार के फैसले पर निगाहे जमाए हुए है।

केजरीवाल बोले- दिल्ली के लोगों ने रचा इतिहास, अब हरियाणा की बारी है

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.