Monday, Dec 06, 2021
-->
cbi-hands-empty-in-jharkhand-judge-death-case-high-court-angry-rkdsnt

झारखंड जज की मौत के मामले में सीबीआई के हाथ खाली, हाई कोर्ट नाराज 

  • Updated on 9/9/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। धनबाद में न्यायाधीश उत्तम आनंद की मौत के मामले में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा जांच में कोई नया तथ्य नहीं खोज पाने का उल्लेख करते हुए झारखंड उच्च न्यायालय ने जांच की धीमी गति को लेकर बृहस्पतिवार को नाखुशी जाहिर की। मुख्य न्यायाधीश डॉ रवि रंजन और जस्टिस सुजीत नारायण प्रसाद ने फोरंसिक साइंसेज लैबोरेटरी (फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला) में कर्मियों की कमी पर भी नाखुशी जाहिर की तथा राज्य के गृह सचिव और प्रयोगशाला के निदेशक को सुनवाई की अगली तारीख पर अदालत में उपस्थित होने का आदेश दिया।  

JNU बेस्ट यूनिवर्सिटीज की NIRF रैंकिंग में दूसरा पायदान पर, डीयू 12वें स्थान पर

पीठ ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि जांच में ऐसा कुछ भी खुलासा नहीं हुआ है जो पहले से ज्ञात नहीं है। यह याचिका, 28 जुलाई को धनबाद शहर में एक ऑटो रिक्शा (तिपहिया वाहन) की टक्कर के बाद 49 वर्षीय अतिरिक्त जिला न्यायाधीश की मौत की जांच की निगरानी करने के लिए दायर की गई है।  पीठ ने कहा कि घटना की वीडियो फुटेज से यह स्पष्ट रूप से प्रदर्शित होता है कि ऑटो रिक्शा चालक सड़क पर अपनी लेन से बाहर हो गया और न्यायाधीश को वाहन से टक्कर मार दी। 

‘हिंदू आईटी सेल’ के विकास पांडे ने गबन मामले में पत्रकार राना अयूब पर केस दर्ज कराया

अदालत ने कहा कि यहां तक कि यदि चालक शराब के नशे में था, तो भी फुटेज से उसका मकसद साफ जाहिर होता है। उल्लेखनीय है कि राज्य पुलिस की एक विशेष जांच टीम (एसआईटी) शुरूआत में मामले की जांच कर रही थी। राज्य सरकार ने बाद में इसे सीबीआई को सौंप दिया , जिसने चार अगस्त को अपनी जांच शुरू की थी। अदालत ने बृहस्पतिवार को गृह सचिव और एफएसएल के निदेशक को सुनवाई की अगली तारीख पर ऑनलाइन माध्यम से उसके समक्ष उपस्थित होने के लिए भी तलब किया। 

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे की पत्नी नीलम, बेटे नीतेश के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर

यह आदेश अदालत को झारखंड लोक सेवा आयोग द्वारा यह सूचित करने के बाद आया कि उसने एफएसएल में रिक्त पदों को भरने के लिए इस साल मार्च में विज्ञापन जारी किया था। हालांकि, विज्ञापन रद्द कर दिया गया और कोई नया विज्ञापन नहीं जारी किया गया। पीठ ने इस मुद्दे पर नाखुशी जाहिर की और कहा कि सरकार इस अदालत को अंधेरे में रखना चाहती है। उच्च न्यायालय ने सीबीआई द्वारा मामले की जांच की धीमी गति से प्रगति को लेकर दो सितंबर को भी नाखुशी जाहिर की थी।  

यूपी में हर पार्टी भाग रही है ब्राह्मणों के पीछे

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.