Thursday, Aug 13, 2020

Live Updates: Unlock 3- Day 13

Last Updated: Thu Aug 13 2020 03:01 PM

corona virus

Total Cases

2,400,418

Recovered

1,698,038

Deaths

47,176

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA535,601
  • TAMIL NADU314,520
  • ANDHRA PRADESH254,146
  • KARNATAKA196,494
  • NEW DELHI148,504
  • UTTAR PRADESH136,238
  • WEST BENGAL104,326
  • BIHAR90,553
  • TELANGANA86,475
  • GUJARAT74,390
  • ASSAM61,738
  • RAJASTHAN56,708
  • ODISHA52,653
  • HARYANA43,227
  • MADHYA PRADESH40,734
  • KERALA34,331
  • JAMMU & KASHMIR24,897
  • PUNJAB23,903
  • JHARKHAND18,156
  • CHHATTISGARH12,148
  • UTTARAKHAND9,732
  • GOA8,712
  • TRIPURA6,497
  • PUDUCHERRY5,382
  • MANIPUR3,753
  • HIMACHAL PRADESH3,536
  • NAGALAND2,781
  • ARUNACHAL PRADESH2,155
  • LADAKH1,688
  • DADRA AND NAGAR HAVELI1,555
  • CHANDIGARH1,515
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS1,490
  • MEGHALAYA1,062
  • SIKKIM866
  • DAMAN AND DIU838
  • MIZORAM620
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
cbse will change board exam question paper pattern

CBSE 2023 तक बोर्ड परीक्षा के प्रश्नपत्रों में करेगी बड़ा बदलाव, जानें पूछे जाएंगे कैसे प्रश्न

  • Updated on 11/28/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) विद्यार्थियों में रचनात्मकत क्षमता को बढ़ाने के लिए 10वीं 12वीं बोर्ड परीक्षा में अभिनव, रचनात्मक व गहन सोच पर आधारित प्रश्न छात्रों से पूछेगा। बुधवार को सीबीएसई सचिव अनुराग त्रिपाठी ने हमें बताया कि इस साल 10वीं 12वीं बोर्ड परीक्षा में 10 फीसद सवाल ऐसे पूछे जाएंगे जिन्हें छात्र रटकर नहीं समझकर हल कर सकेंगे। 

ये सवाल उनसे अभिनव विचार, रचनात्मक सोच व विश्लेषण क्षमता पर आधारित होंगे जिनका जवाब उन्हें समझ कर देना होगा। उन्होंने कहा कि वह साल 2023 तक पूरे पेपर को इनोवेटिव, क्रिटिकल और क्रिएटिव थिंकिंग में शिफ्ट करने का विचार कर रहे हैं। 

इससे पहले अनुराग त्रिपाठी ने मंगलवार को कहा कि देश के भविष्य को ध्यान में रखते हुए 2023 तक 10वीं और 12वीं परीक्षा के प्रश्न पत्रों के स्वरूप में बड़ा बदलाव करने की जरूरत है। त्रिपाठी ने कहा कि इस साल जहां 10वीं कक्षा के विद्यार्थियों को 20 फीसदी वस्तुनिष्ठ प्रश्नों को हल करना होगा। 

वहीं 10 फीसदी सवाल रचनात्मक विचार पर आधारित होंगे। 2023 तक 10वीं और 12वीं कक्षाओं के प्रश्नपत्र रचनात्मकता, आलोचनात्मक और विश्लेषण पर आधारित होंगे। उन्होंने कहा कि भारत में व्यावसायिक विषयों को ज्यादा छात्र नहीं मिलते हैं। ऐसा रोजगार की कमी, बाजार की स्थिरता की कमी और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा नहीं होने की वजह से होता है। 

त्रिपाठी ने कहा कि इसके अलावा शिक्षा प्रणाली में बुनियादी ढांचे, शिक्षकों, अभिभावकों और विद्यार्थियों के बीच आपसी संबंध को बढ़ावा देने की बेहद जरूरत है। नई शिक्षा नीति के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि इसका लक्ष्य व्यावसायिक विषयों और मुख्य विषयों के बीच के अंतर को भरना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.