Tuesday, Oct 26, 2021
-->
cctv metal detectors in rohini court not working bar council seeks reply from police kmbsnt

रोहिणी कोर्ट में लगे CCTV और मेटल डिटेक्टर नहीं करते काम, बार काउंसिल ने पुलिस से मांगा जवाब

  • Updated on 9/25/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। रोहिणी कोर्ट में शुक्रवार को हुए शूटआउट के बाद से  दिल्ली पुलिस और कोर्ट  की सुरक्षा  व्यवस्था पर सवाल खड़े हो रहे हैं। ऐसे में दिल्ली बार काउंसिल के अध्यक्ष राकेश सहरावत ने रोहिणी कोर्ट में सुरक्षा कमियों को लेकर कमिश्नर से बात की।

 

राकेश सहरावत ने  बताया कि रोहिणी कोर्ट में जांच के बाद पाया गया कि सिक्योरिटी कैमरा और मेटल डिटेक्टर काम नहीं करते और स्टाफ सतर्क नहीं है। इन सब मुद्दों पर पुलिस कमिश्नर ने सकारात्मक जवाब दिया और एक हफ़्ते का समय मांगा है। 

रोहिणी अदालत गोली कांड : AAP और कांग्रेस ने अमित शाह पर साधा निशाना

रोहिणी कोर्ट में गैंगस्टरों के बीच चली ताबड़तोड़ गोलियां
बता दें कि शुक्रवार को रोहिणी कोर्ट में गैंगस्टरों के बीच ताबड़तोड़ गोलियां चली। जिसमें दिल्ली एनसीआर का टॉप गैंगस्टर जितेंद्र उर्फ गोगी मारा गया। हालांकि इस गैंगवार पर तुरंत दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की टीम ने पलटवार किया और मौके पर वकील की ड्रेस में दो शूटरों को ढेर कर दिया।

यह वारदात उस समय हुई जब जितेंद्र उर्फ गोगी की कोर्ट नंबर 217 में पेशी हो रही थी। घटना के बाद दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर को नोटिस जारी किया है। वहीं पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना ने कोर्ट में सुरक्षा चूक पर जांच कमेटी का गठन किया है। जिसकी जांच ज्वाइंट कमिश्नर नॉर्थ को दी गई है।

नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक जी सी मुर्मू IAEA के ऑडिटर बने 

जांच का जिम्मा क्राइम ब्रांच को
इसके अलावा मामले की जांच का जिम्मा क्राइम ब्रांच को सौंप दिया गया है। प्रारंभिक जांच में सामने आया कि यह हत्या उसके जानी दुश्मन टिल्लू ताजपुरिया ने कराई है। उल्लेखनीय है कि करीब एक दशक से इन दोनों के बीच गैंगवार चल रहा है। जिसमें अब तक 32 लोगों की मौत हुई है। घटना के बाद मौके पर दिल्ली पुलिस के शीर्ष अधिकारी पहुंचे। जिन्होंने घटना का जायजा लेकर जांच शुरू की।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.