Friday, Sep 30, 2022
-->
center-should-apprise-mother-about-steps-to-find-missing-army-officer-court

लापता सैन्य अधिकारी को ढूंढने से संबंधित कदमों के बारे में बूढ़ी मां को अवगत कराए केंद्र : कोर्ट

  • Updated on 8/4/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उच्चतम न्यायालय ने सैन्य अधिकारी कैप्टन संजीत भट्टाचार्जी का पता लगाने के लिए किये जा रहे प्रयासों के बारे में उनकी 83-वर्षीया मां को तीन-तीन महीने पर अवगत कराने का बृहस्पतिवार को केंद्र सरकार को निर्देश दिया। कैप्टन भट्टाचार्जी का सालों पहले एक सैन्य अभियान के बाद से अता-पता नहीं चल सका है, और ऐसा समझा जाता है कि वह पिछले 25 वर्ष से अधिक समय से पाकिस्तान की जेल में बंद हैं।  

अमित शाह ने कर्नाटक के CM बोम्मई के साथ की पार्टी संगठन के बारे में चर्चा

  •  

 

न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूॢत जे.बी. पारदीवाला की पीठ ने कहा कि सैन्य अधिकारी की बूढ़ी मां ने याचिका दायर की है, जो चाहती हैं कि सरकार उनके बेटे के बारे में पता लगाने के लिए कुछ कदम उठाए।  पीठ ने कहा, ‘‘हम भारत सरकार को कैप्टन संजीत भट्टाचार्जी का अता-पता लगाने के लिए उचित कदम उठाने और उन कदमों के बारे में उनकी (सैन्य अधिकारी की) मां को त्रैमासिक स्तर पर अवगत कराने के लिए सलाह देते हैं।’’  

सरायों से GST हटाने की मांग को लेकर सीतारमण से मिले AAP सांसद राघव चड्ढा

शीर्ष अदालत ने अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल के एम नटराज की दलीलों को रिकॉर्ड पर लिया कि कैप्टन संजीत भट्टाचार्जी का पता लगाने के लिए राजनयिक और अन्य चैनल के माध्यम से प्रयास जारी हैं।  न्यायमूर्ति पारदीवाला ने कहा कि यदि घात लगाकर हमला किया गया होता और पूरी पलटन पर हमला हुआ होता तो स्थिति समझी जा सकती है, लेकिन यहां ऐसा मामला है, जहां पलटन के केवल दो व्यक्ति लापता हुए थे और बाकी वापस आ गए थे।  

संसद की कार्यवाही चलने के दौरान खड़गे को ED का मिलने समन से भड़की कांग्रेस

पीठ ने नटराज से कहा, ‘‘बाकी, जो वापस बेस पर लौट आए हैं, उन्हें कुछ पता होना चाहिए कि क्या हुआ था। आप उनसे यह पता लगाने की कोशिश करें क्योंकि (बुजुर्ग मां को) कम से कम अपने बेटे की स्थिति का तो पता हो।’’  शीर्ष अदालत ने 12 मई को केंद्र से, मां की याचिका पर कैप्टन संजीत भट्टाचार्जी का पता लगाने के लिए उठाए गए कदमों के बारे में अद्यतन स्थिति रिपोर्ट दाखिल करने को कहा था। याचिका में कहा गया है कि याचिकाकर्ता को सूचना मिली है कि अगस्त 1992 में भारतीय सेना की गोरखा राइफल्स रेजिमेंट के अधिकारी के रूप में कमीशन प्राप्त संजीत भट्टाचार्जी लाहौर की कोट लखपत जेल में बंद हैं। 

नीति आयोग के कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी से मिल सकती हैं ममता बनर्जी

comments

.
.
.
.
.