Friday, May 07, 2021
-->
central govt notice to delhi govt over air pollution prakash javadekar kmbsnt

अब नहीं जल रही पराली, फिर भी दिल्ली में प्रदूषण क्यों? केंद्र का केजरीवाल सरकार को नोटिस

  • Updated on 12/4/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली में प्रदूषण (Delhi Pollution) की समस्या को लेकर केंद्र सरकार ने एक बार फिर दिल्ली सरकार को नोटिस जारी किया है। केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर (Prakash Javadekar) का कहना है कि दिल्ली में वायु की गुणवत्ता अभी भी बहुत खराब श्रेणी में है, जबकि अब पराली जलना बंद हो चुकी है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने दिल्ली सरकार (Delhi Govt) को नोटिस जारी किया है, बायोमास जलने और धूल जैसे प्रदूषण के कारणों पर कार्रवाई करने के लिए कहा है। 

वहीं दिल्ली सरकार के डायलॉग और डटेलेपमेंट कमीशन और विधि सेंटर फॉर लीगल पॉलिसी ने दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में वायु प्रदूषण से निपटने के लिए एक राणनीतिक साझेदारी की है। 3 दिसंबर को हुए एमओयू के अनुसार दोनो संस्थान दिल्ली एनसीआर में  वायु प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए नीति और कानूनी सुधारों का सुझाव देने और उनका विश्लेषण करने के लिए मिलकर काम करेंगे।

केंद्र सरकार ने 2 साल में 18 सौ करोड़ रूपये खर्च किए लेकिन पंजाब में पराली जलाने की घटनाएं 46% बढ़ीं

प्रदूषण नियंत्रम के लिए दिल्ली सरकार ने उठाए कदम
डीडीसीडी के उपाध्यक्ष जस्मीन शाह ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्तव में दिल्ली सरकार ने वायु प्रदूषम को नियंत्रित करने के लिए कई क्रांतिकारी कदम उठाए हैं। जिसमें पराली समाधान के लिए पूसा इंस्टीट्यूट द्वारा विकसित वायो डीकंपोजर तकनीक का इस्तेमाल दिल्ली इलेक्ट्रकि व्हीकल्स पॉलिसी और ऑड ईवन स्कीम जैसे प्रमुख कदम शामिल हैं। 

दिल्ली में वायु गुणवत्ता बहुत खराब
जानकारी के लिए आपको बता दें कि दिल्ली में इस समय वायु गुणवत्ता बहुत खराब श्रेणी में बनी हुई है। आगामी दो दिन भी इसमें किसी प्रकार के कोई सुधार की उम्मीद नहीं है। गुरुवार को वायुगुणवत्ता सूचकांक 341 दर्ज किया गया, जबकि बचुधवार को 24 घंटे का औरसत एक्यूआई 373 था। सफर के वैज्ञानिकों ने अनुमान जताया है कि अगले दो दिन में हवा का स्तर और खराब होगा क्योंकि हवाएं शांत हैं। 

कपिल मिश्रा ने लिखा राष्ट्रपति को पत्र, कहा- केजरीवाल सरकार बैनर लगाकर दिल्ली में बुला रही भीड़

गुरुवार को 249 जगह जलती दिखी पराली
सफर के वैज्ञानिकों के अनुसार रविवार को हवाओं की रफ्तार बढ़ने के बाद संभव है कि प्रदूषण स्तर में सुधार हो। हालांकि गुरुवार को पराली जलने के मामले 249 नजर आए और इससे दो प्रतिशत प्रदूषण स्तर में वृद्धि दिखाई दी। धीमी गति की हवाओं और कम तापमान के कारण प्रदूोषक धरातल के निकट बने हुए हैं, जिससे प्रदूषण का स्तर बढ़ा हुआ है। केंद्र सरकार की दिल्ली के लिए वायु गुणवत्ता पूर्व चेतावनी प्रणाली ने बताया कि वायु गुणवत्ता के शनिवार तक बेहद खराब श्रेणी में बने रहने की आशंका है। हालांकि वैज्ञानिकरों ने यह अनुमान पहले व्यक्त किए थे कि चार दिसंबर से 7 दिसंबर के बीच हवा का स्तर गंभीर श्रेणी में पहुंच सकता है। 

ये भी पढ़ें- 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.