Friday, Aug 19, 2022
-->
central-information-commissioner-uday-mahurkar-praise-savarkar-for-hindutva-rkdsnt

सावरकर की तारीफ में केंद्रीय सूचना आयुक्त उदय माहूरकर ने पढ़े कसीदे

  • Updated on 11/28/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। हिंदुत्व की राजनीतिक विचारधारा के प्रणेता माने जाने वाले विनायक दामोदर सावरकर की शख्सियत को ‘‘भारत रत्न’’ से ऊपर बताते हुए केंद्रीय सूचना आयुक्त उदय माहूरकर ने कहा कि अगर सावरकर को सर्वोच्च नागरिक सम्मान नहीं भी मिलता है, तो भी उनका कद अप्रभावित रहेगा क्योंकि देश में Þसावरकर युगÞ का आगमन पहले ही हो चुका है। 

संयुक्त किसान मोर्चा ने संसद तक ट्रैक्टर मार्च किया स्थगित, सरकार को बड़ी राहत

 

इंदौर साहित्य महोत्सव में शामिल होने आए माहूरकर ने शनिवार को एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘मैं मानता हूं कि सावरकर (की शख्सियत) भारत रत्न से ऊपर है। अगर उन्हें यह सम्मान मिलता है, तो अच्छी बात है। लेकिन अगर उन्हें यह सम्मान नहीं भी मिलता है, तो भी इससे उनके कद पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा क्योंकि देश में सावरकर युग का आगमन हो चुका है।’’ 

पंजाब में टंकी पर विरोध-प्रदर्शन कर रही बेरोजगार महिला टीचर को मनाने पहुंचे केजरीवाल

 

‘वीर सावरकर : द मैन हू कुड हैव प्रिवेंटेड पार्टिशन’ पुस्तक के लेखक ने कहा, ‘‘पहले हम सोच तक नहीं पाते थे कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 कभी हट भी सकता है। लेकिन इस अनुच्छेद को हटा दिया गया। यह कदम देश में सावरकर युग के आगमन का प्रतीक है।’’ गौरतलब है कि महाराष्ट्र में पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने अपने घोषणापत्र में कहा था कि राज्य की सत्ता में आने पर वह 'भारत रत्न' के लिए सावरकर के नाम की सिफारिश पार्टी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार से करेगी। इसके अलावा, अलग-अलग दक्षिणपंथी संगठन भी सावरकर को देश के सर्वोच्च सम्मान से नवाजे जाने की मांग पिछले कई साल से कर रहे हैं।  

दलित हत्याकांड : अखिलेश का शाह पर कटाक्ष- उम्मीद है ये अपराधी बिना चश्मे के भी दिख जाएंगे

माहूरकर ने सावरकर को भारत की ‘‘राष्ट्रीय सुरक्षा नीति का पितामह' बताया और दावा किया कि हिंदुत्व के इस विचारक ने गुलाम भारत में कांग्रेस की मुस्लिम तुष्टीकरण की कथित नीति और मुस्लिम लीग की हरकतों को देखकर देश के विभाजन के खतरे को काफी पहले ही भांप लिया था। केंद्रीय सूचना आयुक्त ने कहा, ‘‘भारत का विभाजन राष्ट्रीय सुरक्षा का ही मामला था।’’

गोवा के पुरातत्व संरक्षित क्षेत्र में अवैध निर्माण को TMC, GFP ने बनाया मुद्दा, निशाने पर BJP

comments

.
.
.
.
.