Monday, Nov 28, 2022
-->
central minister ramdas athawale gave a hint of change in caa

केंद्रीय मंत्री ने कहा- भावनाओं को देखते हुए CAA में बदलाव संभव, सरकार ने मांगे हैं सुझाव

  • Updated on 1/24/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ देशभर में विरोध प्रदर्शन हो रहा है। विपक्षी दलों का आरोप है कि सरकार इस कानून के जरिए मुसलमानों के साथ भेदभाव कर रही है। जबकि केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) स्पष्ट कर चुकी है कि सीएए से 'भारत का एक भी नागरिक' प्रभावित नहीं होगा। इसके बावजूद सीएए को लेकर प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस बीच खबर है कि सरकार के भीतर इसको लेकर मंथन का दौर शुरू हो गया है।

दिल्ली चुनाव: खुशी है 'कुछ' कैमरे तो आपको दिखाई दिए, शाह से केजरीवाल

अठावले ने दिए CAA में बदलाव के संकेत
दरअसल, केंद्रीय सामाजिक न्याय मंत्री रामदास अठावले (Ramdas Athawale) ने एक बयान दिया था जिसमें उन्होंने कहा था कि सीएए बिलकुल भी मुस्लिम विरोधी नहीं है, लेकिन इसे लेकर लोगों में काफी गलतफहमी पैदा हो गई है। केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा कि लोगों की भावनाओं को देखते हुए सरकार सीएए में बदलाव कर सकती हैं और इसे लेकर सरकार ने कुछ सुझाव भी मांगे है। 

दिल्ली जीतने की तैयारी में BJP, शाह की 3 तो नड्डा की दो रैलियां आज

CAA पर सरकार एक इंच भी पीछे नहीं हटेगी- शाह
मालूम हो कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने पिछले दिनों कहा था कि भले ही सभी विपक्षी दल एकजुट हो जाएं लेकिन भाजपा सीएए पर एक इंच भी पीछे नहीं हटेगी और इसे रद्द नहीं करेगी। हालांकि रामदास अठावले के संकेत से लगता है कि सरकार इस कानून पर विचार करने के मूड में है। 

लखनऊ में बोले गृह मंत्री- जिसको विरोध करना हो करे, CAA वापस नहीं होने वाला

डंके की चोट पर वापस नहीं होगा CAA- अमित शाह
इससे पहले लखनऊ में रैली संबोधित करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सीएए का विरोध कर रहे विपक्ष की आंखों पर वोट बैंक की पट्टी बंधी होने का आरोप लगाते हुए मंगलवार को साफ किया कि जिसको विरोध करना हो करे, मगर सीएए वापस नहीं होने वाला है। शाह ने सीएए के समर्थन में यहां आयोजित जागरूकता रैली में कहा कि सीएए नागरिकता छीनने का नहीं बल्कि देने का कानून है, मगर कांग्रेस और सपा समेत विपक्षी दल इसका विरोध कर रहे हैं, क्योंकि उनकी आंखों पर वोट बैंक की पट्टी बंधी है।

दिल्ली चुनाव: जीत सुनिश्चित करने बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व ने संभाली कमान

सीएए पर चर्चा करने के लिए ढूंढे सार्वजनिक मंच
उन्होंने कहा 'जिसको विरोध करना हो करे, मगर सीएए वापस नहीं होने वाला है।' शाह ने विपक्षी दलों को सीएए पर बहस की चुनौती भी दी। उन्होंने कहा "सीएए के खिलाफ प्रचार किया जा रहा है कि इससे देश के मुसलमानों की नागरिकता चली जाएगी। मैं कहने आया हूं कि जिसमें भी हिम्मत है वह इस पर चर्चा करने के लिये सार्वजनिक मंच ढूंढ ले। हम चर्चा करने के लिये तैयार हैं।"

जेपी नड्डा ने राहुल गांधी को दी चुनौती, कहा- नागरिकता कानून पर 10 लाईन बोल कर दिखा दें

CAA पर 10 लाईन बोल कर दिखा दें राहुल - नड्डा
वहीं बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) ने राहुल गांधी को चुनौती देते हुए कहा था कि वे CAA के बारे में 10 लाईन बोल कर दिखा दें। उन्होंने आश्चर्य प्रकट किया कि कांग्रेस वोट बैंक को लेकर जनता को गुमराह कर रही है, जो सही नहीं है। उन्होंने कहा कि राहुल को बताना चाहिये कि CAA से कैसे नागरिकता किसी की चली जाती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.