Wednesday, Dec 01, 2021
-->
chamoli glacier burst rescue operation still continues in tapovan tunnel sohsnt

उत्तराखंड त्रासदी: चमोली में 72 घंटे से जिंदगी बचाने का ऑपरेशन जारी, हालात पर सीएम रावत की नजर

  • Updated on 2/10/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। उत्तराखंड (Uttarakhand) के चमोली जिले में आई आपदा के दौरान लापता 206 लोगों में से मंगलवार तक 32 लोगों के शव अलग-अलग स्थानों से बरामद कर लिए गये हैं। इसके साथ ही तपोवन-विष्णुगाड हाइड्रो प्रोजेक्ट की टनल में फंसे 34 लोगों को बाहर निकालने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन अभी भी जारी है। राज्य के मुख्यमंत्री यहां जारी हर गतिविधि पर लगातार नजर बनाए हुए हैं।

सुरंग में फंसे लोगों को निकालने का अभियान पड़ा धीमा, अब तक 32 शव बरामद 

 

32 लोगों के शव विभिन्न स्थानों से बरामद
तपोवन में आई आपदा के दौरान लापता 206 लोगों में से मंगलवार तक 32 लोगों के शव विभिन्न स्थानों से बरामद कर लिए गए हैं। शवों को शिनाख्त के बाद परिजनों को सौंपा जा रहा है। शासन के आदेश के बाद मौके पर ही पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है। इसके साथ ही विभिन्न स्थानों पर 7 लोगों के क्षत-विक्षत अंग भी मिले हैं। इनके डीएनए शिनाख्त के लिए रखे जा रहे हैं।

टनल में 35 से 40 लोगों के फंसे होने की खबर
बता दें कि तपोवन क्षेत्र में 7 फरवरी को आई आपदा के दौरान ऋषिगंगा पॉवर प्रोजेक्ट और तपोवन-विष्णुगाड जल विद्युत परियोजना के साथ ही आसपास के 206 लोग मलबे के सैलाब में लापता हो गये थे। इसके बाद से आई.टी.बी.पी., एन.डी.आर.एफ., एस.डी.आर.एफ. और पुलिस प्रशासन टनल में फंसे 35 से 40 लोगों को निकालने के लिए दिन-रात रेस्क्यू अभियान चला रहा है। वहीं आपदा क्षेत्र के साथ ही चमोली से श्रीनगर तक विभिन्न स्थानों पर अलकनंदा नदी के तटों  पर सर्च अभियान भी चलाया जा रहा है।

उत्तराखंड की दुर्घटना अतीत से कोई सबक न सीखने का नतीजा

80 मीटर टनल से हटा लिया मलबा
रेस्क्यू अभियान दल ने 80 मीटर टनल से मलबा हटा लिया है। वहीं 180 मीटर टनल से मलबा हटाया जा रहा है। लेकिन टनल में गाद होने के चलते रेस्क्यू की गति कम रही। एस.डी.आर.एफ. के सेना नायक नवनीत भुल्लर ने बताया कि टनल में पानी के साथ भारी मात्रा में मिट्टी भरी हुई। जिसे हटाने में अभियान दल को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। 

फंसे लोगों की खोजबीन लगातार जारी
तपोवन-विष्णुगाड जल विद्युत परियोजना की स्केप टनल में एस.डी.आर.एफ. की ओर से चलाये जा रहे सर्च अभियान के दौरान मंगलवार को ड्रोन की मदद से भी सर्च किया गया। लेकिन टनल में कम रोशनी और मलबा भरा होने के चलते यहां फंसे लोगों का कोई सुराग नहीं मिला है। मलबा हटाकर फंसे लोगों की खोजबीन जारी है।

उत्तराखंड आपदा : लखिमपुर खीरी के बाद सहारनपुर के लोगों से संपर्क टूटा, परिजन परेशान

पीएम नरेंद्र मोदी स्थिति पर बनाए हुए हैं नजर
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने लोकसभा एवं राज्यसभा में उत्तराखंड बाढ़ पर स्वत: आधार पर दिए गए एक बयान में कहा कि अचानक आई बाढ़ के कारण एक सुरंग में फंसे, एनटीपीसी की निर्माणाधीन परियोजना के करीब 25 से 35 कर्मियों को निकालने का कार्य युद्धस्तर पर जारी है। एक अन्य  सुरंग में फंसे 15 लोगों को सुरक्षित निकाला जा चुका है। गृह मंत्री ने कहा कि केंद्र द्वारा उच्च स्तर पर 24 घंटे निगरानी रखी जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। उन्होंने कहा कि गृह मंत्रालय के दोनों नियंत्रण कक्ष भी स्थिति पर 24 घंटे निगाह रख रहे हैं तथा राज्य सरकार को हर-संभव सहायता दी जा रही है। 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.