आंध्र प्रदेश के CM चंद्रबाबू नायडू ने अपना एक दिवसीय उपवास तोड़ा

  • Updated on 2/11/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने केन्द्र से राज्य को विशेष दर्जा देने और 2014 में इसके विभाजन से पहले किए सभी वादों को पूरा करने की मांग को लेकर सोमवार को यहां एक दिवसीय अनशन शुरू किया।

पूरे दिन उपवास पर रहने के बाद एन. चंद्रबाबू नायडू ने अपना अनशन खत्म कर दिया है। पूर्व प्रधानमंत्री एच. डी. देवगौड़ा ने नायडू को पानी पिलाकर उनकी भूख हड़ताल खत्म कराई। नायडू ने सुबह यहां आंध्र भवन में अपना अनशन शुरू किया था।

आंध्रप्रदेश को विशेष दर्जा प्रदान किये जाने और 2014 में राज्य के विभाजन के पहले किये गए वादों को पूरा करने की मांग को लेकर उन्होंने अनशन शुरू किया था। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) प्रमुख को अपना समर्थन दिया था ।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सहित विपक्षी दलों के कई नेताओं के नायडू के समर्थन में पहुंचे थे। नायडू ने अनशन शुरू करने से पहले महात्मा गांधी को राज घाट पर और भीम राव आंबेडकर को आंध्र प्रदेश भवन में श्रद्धांजलि दी। 

  • आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा मिलना चाहिए: राहुल गांधी
  • हम सब साथ मिलकर प्रधानमंत्री मोदी को हराएंगे: राहुल गांधी
  • पीएम मोदी ने लोगों से किए वादे पूरे नहीं किए: राहुल गांधी 
  • अनशन पर चंद्रबाबू नायडु, आंध्र भवन पहुंचे राहुल गांधी

आज यूपी में हुंकार भरेंगी प्रियंका, बोलीं- 'आइए, एक नये भविष्य का निर्माण करें'

तेदेपा का एक प्रतिनिधिमंडल नायडू के नेतृत्व में मंगलवार को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद को एक ज्ञापन सौंपेगा। आम चुनाव से पहले तेदेपा प्रमुख भाजपा के खिलाफ विपक्ष को एकजुट करने में लगे हैं। भाजपा विरोधी गठबंधन के लिए पिछले तीन महीने में वह कई बैठकें कर चुके हैं। आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग को लेकर तेदेपा मार्च 2018 में राजग सरकार से अलग हो गया था।

उरी : आर्मी कैंप के पास देखे गए दो संदिग्ध, सर्च ऑपरेशन जारी

पार्टी ने नरेन्द्र मोदी सरकार पर पोलावरम सिंचाई परियोजना, कडप्पा इस्पात संयंत्र और निर्माणाधीन अल्ट्रा-आधुनिक राज्य की राजधानी अमरावती के लिए धन नहीं देने का आरोप भी लगाया है। आंध्र प्रदेश को दो जून 2014 को दो हिस्सों में बांट दिया गया था। हैदराबाद नए राज्य तेलंगाना की राजधानी बन गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.