Monday, Mar 01, 2021
-->
chandrashekhar azad appeals to supreme court against caa

चंद्रशेखर आजाद ने CAA के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट से लगाई गुहार

  • Updated on 1/22/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भीम आर्मी (Bhim Army) प्रमुख चंद्रशेखर आजाद (Chandra Shekhar Azad) ने बुधवार को सर्वोच्च अदालत (Supreme court) में याचिका दायर की गई है। याचिका में उन्होंने आरोप लगाया है कि नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act) एससी/एसटी एक्ट (SC/ST Act) का उल्लंघन करता है। बता दें कि भीम आर्मी चीफ लगातार इस कानून का विरोध कर रहे हैं और केंद्र सरकार पर निशाना साध रहे हैं। 

CAA विरोध: चंद्रशेखर के बाद जामा मस्जिद पहुंची अलका लांबा, हुआ जोरदार प्रदर्शन

बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में 144 याचिकाओं पर सुनवाई हुई
सुप्रीम कोर्ट में इसी कानून पर दायर की गई 144 याचिकाओं पर सुनवाई हुई हालांकि चंद्रशेखर की याचिका इनसे अलग है। बता दें कि चंद्रशेखर आजाद ने बीते दिनों जामा मस्जिद पर सीएए के खिलाफ हुए प्रदर्शन में हिस्सा लिया था। इसी के बाद पुलिस ने उन्हे गिरफ्तार कर लिया था, वे काफी लंबे समय से तिहाड़ तेल में रहे जिसके बाद दिल्ली के एक अदालत ने उन्हें जमानत दे दी।

CAA प्रदर्शनः HC ने दिल्ली पुलिस को लगाई फटकार, कहा- PAK में नहीं है जामा मस्जिद

पहले चार हफ्ते के लिए दिल्ली से बाहर रहने का आदेश
भीम आर्मी चीफ को पहले चार हफ्ते के लिए दिल्ली से बाहर रहने का आदेश दिया गया था। लेकिन मंगलवार को ही तीस हजारी कोर्ट ने उन्हें सशर्त दिल्ली आने की पहले जिस स्थान पर जाना था उस थाने के डीएसपी को जानकारी देनी होगी। 

CAA विरोध: शाहीनबाग प्रदर्शन को हाइजैक करने का आरोप, भीम आर्मी हुई शामिल

शाहीन बाग में प्रदर्शन
बता दें कि संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ शाहीन बाग में हो रहे प्रदर्शन में हिस्सा लिया और संगठन के अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद की रिहाई की मांग की।

दलित संगठन के सदस्यों ने आजाद और बाबासाहेब भीमराव आंबेडकर के पोस्टर के साथ ‘बहुजन-मुस्लिम एकता जिंदाबाद’ और ‘जय भीम’ के नारे लगाए। आजाद को पुरानी दिल्ली के दरियागंज में 21 दिसंबर को हुई हिंसा के संबंध में गिरफ्तार किया गया था। 

CAA विरोध: चंद्रशेखर की जमानत याचिका खारिज, कोर्ट ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा

शाहीन बाग में संगठन के समर्थकों की अगुवाई की
भीम आर्मी की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष हिमांशु वाल्मीकि ने शाहीन बाग में संगठन के समर्थकों की अगुवाई की। जामिया मिल्लिया इस्लामिया के निकट स्थित शाहीन बाग में 15 दिसंबर से एक वर्ग के लोग संशोधित नागरिकता कानून और एनआरसी के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.