Wednesday, Oct 27, 2021
-->
charanjit singh became cm of punjab kmbsnt

चरणजीत चन्नी ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली, राहुल गांधी ने दी शुभकामना

  • Updated on 9/20/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पंजाब में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चरणजीत सिंह चन्नी ने सोमवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।चन्नी पंजाब में मुख्यमंत्री बनने वाले दलित समुदाय के पहले व्यक्ति हैं। उनके अलावा सुखजिंदर सिंह रंधावा और ओम प्रकाश सोनी ने भी शपथ ली जो राज्य के उप मुख्यमंत्री हो सकते हैं।

चन्नी दलित सिख (रामदसिया सिख) समुदाय से आते हैं और अमरिंदर सरकार में तकनीकी शिक्षा मंत्री थे। वह रूपनगर जिले के चमकौर साहिब विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। वह इस क्षेत्र से साल 2007 में पहली बार विधायक बने और इसके बाद लगातार जीत दर्ज की। वह शिरोमणि अकाली दल-भाजपा गठबंधन के शासनकाल के दौरान साल 2015-16 में विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी थे।

चन्नी के साथ सुखजिंदर सिंह रंधावा और ब्रह्म मोहिंद्रा भी शपथ लेंगे जो पंजाब सरकार में उप मुख्यमंत्री होंगे। चन्नी पंजाब में मुख्यमंत्री बनने वाले दलित समुदाय के पहले व्यक्ति होंगे। उप मुख्यमंत्री बनने जा रहे रंधावा जट सिख और मोजिंद्रा हिंदू समुदाय से ताल्लुक रखते हैं। कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि चन्नी मुख्यमंत्री पद के लिए राहुल गांधी की पसंद हैं।  मनोनीत सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने शपथ ग्रहण समारोह से पहले रूपनगर के एक गुरुद्वारे में पूजा-अर्चना की।

58 वर्षीय चन्नी पंजाब के पहले दलित सीएम होंगे। वे शीर्ष पद के लिए चुने जाने से पहले राज्य के तकनीकी शिक्षा मंत्री थे। वह चमकौर साहिब निर्वाचन क्षेत्र से 3 बार से विधायक हैं।

अभिनेत्री आयशा शर्मा ने आईजीआई एयरपोर्ट पर तैनात सुरक्षा कर्मियों को कहा 'स्टुपिड'

2015 से 2016 तक विधानसभा में विपक्ष के नेता थे चन्नी
इससे पहले चन्नी 2015 से 2016 तक विधानसभा में विपक्ष के नेता थे। उन्हें मार्च 2017 में कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार में मंत्री बनाया गया था। चन्नी को अगला मुख्यमंत्री बनाए जाने का फैसला कांग्रेस विधायक दल की बैठक में लिया गया। सूत्रों के मुताबिक बैठक में सुखजिंदर रंधावा के नाम को लेकर आम राय बनाने की कवायद हो रही थी, लेकिन कुछ विधायक रंधावा का विरोध कर रहे थे।

इसी बीच कांग्रेस विधायक दल की मुख्यमंत्री के चुनाव को लेकर बैठक टाल दी गई है, लेकिन कुछ ही देर पश्चात बैठक में लिया गया फैसला सामने आ गया और चन्नी को पंजाब कांग्रेस विधायक दल का नेता और राज्य का अगला मुख्यमंत्री चुन लिया गया।

प्रदूषण नियंत्रण प्रमाण पत्र लेकर चलाए वाहन, अन्यथा निलंबित हो सकता है लाइसेंस 

दलित समुदाय से आते हैं चन्नी
चन्नी दलित समुदाय से आते हैं और देश के मुद्दों पर कम ही बार बोलते हैं, लेकिन पंजाब की सियासत में एक मुखर आवाज हैं। दलित हित में हमेशा आगे रहे हैं।  कई मौकों पर अपनी ही पार्टी के खिलाफ भी रुख अपना चुके हैं। दलित वोटरों पर उनकी पकड़ है। अभी 2018 में चन्नी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल रहा था, जिसमें मंत्री सिक्का उछाल कर लोगों की पोस्टिंग करने का फैसला ले रहे थे।

ये विवाद बाद में शांत हो गया, लेकिन ग्रंथ गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी वाले मामले ने कैप्टन और चरणजीत की तकरार जारी रही।गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी वाले मामले में चन्नी की अमरिंदर से नाराजगी शुरू हो गई थी। बाद में जब नवजोत सिंह सिद्धू ने माहौल को गर्म कर दिया। इस दौरान चन्नी के तेवर और कड़े हो गए।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.