Tuesday, Oct 26, 2021
-->
Charanjit Singh Channi shines in Punjab Congress, know full political profile rkdsnt

पंजाब कांग्रेस में चमके चरणजीत सिंह चन्नी, जानें पूरा सियासी प्रोफाइल

  • Updated on 9/19/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कांग्रेस नेता चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब (Punjab) के अगले मुख्यमंत्री (Chief Minister) होंगे। पार्टी ने विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Elections) से कुछ महीने पहले पार्टी विधायकों की बैठक की और उसके बाद चन्नी के नाम का ऐलान किया। 58 वर्षीय चन्नी पंजाब के पहले दलित सीएम होंगे। वे शीर्ष पद के लिए चुने जाने से पहले राज्य के तकनीकी शिक्षा मंत्री थे। वह चमकौर साहिब निर्वाचन क्षेत्र से 3 बार से विधायक हैं।

यूपी में भाजपा सरकार के साढ़े चार :  सीएम योगी पर बरसे AAP सांसद संजय सिंह 


इससे पहले चन्नी 2015 से 2016 तक विधानसभा में विपक्ष के नेता थे। उन्हें मार्च 2017 में कैप्टन अमरिंदर सिंह सरकार में मंत्री बनाया गया था। चन्नी को अगला मुख्यमंत्री बनाए जाने का फैसला कांग्रेस विधायक दल की बैठक में लिया गया। सूत्रों के मुताबिक बैठक में सुखजिंदर रंधावा के नाम को लेकर आम राय बनाने की कवायद हो रही थी, लेकिन कुछ विधायक रंधावा का विरोध कर रहे थे। इसी बीच कांग्रेस विधायक दल की मुख्यमंत्री के चुनाव को लेकर बैठक टाल दी गई है, लेकिन कुछ ही देर पश्चात बैठक में लिया गया फैसला सामने आ गया और चन्नी को पंजाब कांग्रेस विधायक दल का नेता और राज्य का अगला मुख्यमंत्री चुन लिया गया।

'कांग्रेस ने पंजाब के सीएम के लिए नाम का किया ऐलान, अटकलें हुई फेल

कांग्रेस नेतृत्व ने पंजाब के नए मु्ख्यमंत्री के लिए नाम का ऐलान कर दिया है।  चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के अगले मुख्यमंत्री होंगे। उनका चुनाव गए कांग्रेस विधायक दल के नेता के रूप में निर्विरोध रूप से किया गया। इस तरह मीडिया के तमाम अटकलें फेल हो गईं। इससे पहले सुखजिंदर रंधावा इस पद के प्रबल दावेदार माने जा रहे थे। उन्होंने कहा कि वे पार्टी हाईकमान के फैसले को लेकर खुश हैं।

पार्षद लोगों को लूट रहे हैं, चुनाव में हार के डर से लीपापोती कर रही है BJP- सौरभ भारद्वाज

चन्नी दलित समुदाय से आते हैं और देश के मुद्दों पर कम ही बार बोलते हैं, लेकिन पंजाब की सियासत में एक मुखर आवाज हैं। दलित हित में हमेशा आगे रहे हैं।  कई मौकों पर अपनी ही पार्टी के खिलाफ भी रुख अपना चुके हैं। दलित वोटरों पर उनकी पकड़ है। अभी 2018 में चन्नी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल रहा था, जिसमें मंत्री सिक्का उछाल कर लोगों की पोस्टिंग करने का फैसला ले रहे थे।ये विवाद बाद में शांत हो गया, लेकिन ग्रंथ गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी वाले मामले ने कैप्टन और चरणजीत की तकरार जारी रही।गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी वाले मामले में चन्नी की अमरिंदर से नाराजगी शुरू हो गई थी। बाद में जब नवजोत सिंह सिद्धू ने माहौल को गर्म कर दिया। इस दौरान चन्नी के तेवर और कड़े हो गए।

 जावेद अख्तर मानहानी मामले में कोर्ट ने कंगना रनौत को दी वारंट जारी करने की चेतावनी

comments

.
.
.
.
.