Sunday, Nov 28, 2021
-->
chidambaram congress say india only govt which does not care about pegasus case rkdsnt

दुनिया में भारत सरकार इकलौती है जिसे पेगासस मामले पर फिक्र नहीं: चिदंबरम

  • Updated on 7/26/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि भारत सरकार दुनिया की इकलौती ऐसी सरकार है जिसे पेगासस जासूसी मामले पर कोई फिक्र नहीं है।

पेंशन नियमों में बदलाव का मोदी सरकार ने किया बचाव

 वित्त मंत्री ने चिदंबरम ने ट्वीट किया, ‘‘फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों ने इकारायल के प्रधानमंत्री बेनेट को फोन किया और फ्रांस में फोन हैक करने के लिए पेगासस स्पाइवेयर के कथित इस्तेमाल के बारे में पूरी जानकारी की मांग की, जिसमें राष्ट्रपति का फोन भी शामिल है। प्रधानमंत्री बेनेट ने अपनी जांच के‘निष्कर्ष’के साथ वापस आने का वादा किया।’’ 

पेगासस मुद्दा: राज्यसभा सदस्य ने अदालत निगरानी में जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट का किया रुख

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘एकमात्र सरकार जिसे कोई फिक्र नहीं है वह भारत सरकार है! क्या ऐसा इसलिए है क्योंकि सरकार जासूसी के बारे में पूरी तरह से अवगत थी और उसे इकाराइल या एनएसओ समूह से किसी और जानकारी की आवश्यकता नहीं है?’’ 

शिवसेना सांसद राउत ने पूछा सवाल- पेगासस की फंडिंग किसने की? 

पिछले रविवार को, कुछ मीडिया संगठनों के अंतरराष्ट्रीय समूह ने कहा था कि भारत में पेगासस स्पाइवेयर के जरिए 300 से अधिक मोबाइल नंबरों की संभवत: निगरानी की गयी। इसमें दो मंत्री, 40 से अधिक पत्रकारों, तीन विपक्षी नेताओं के अलावा कार्यकर्ताओं के नंबर भी थे। सरकार इस मामले में विपक्ष के सभी आरोपों को खारिज करती रही है। 

पेगासस मामले की कोर्ट निगरानी में हो जांच: थरूर 
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने सोमवार को कहा कि कथित पेगासस जासूसी मामले की जांच उच्चतम न्यायालय की निगरानी में होनी चाहिए। उन्होंने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार अपने राजनीतिक हितों को पूरा करने के मकसद से जासूसी कराने पर सरकारी धन खर्च कर रही है। संसद परिसर में थरूर ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘हम चाहते हैं कि सरकार इस मुद्दे पर सदन में चर्चा के लिए तैयार हो, लेकिन वह सहमत नहीं है। हमारा कहना है कि जब सरकार चर्चा और जवाब देने के लिए तैयार नहीं है तो फिर हमें सरकार के कामकाज को क्यों चलने देना चाहिए।’’ 

गोवा में बिजली मुद्दे पर बहस में कैब्राल पर हावी दिखे AAP के मंत्री सत्येंद्र जैन!

 पिछले रविवार को, कुछ मीडिया संगठनों के अंतरराष्ट्रीय समूह ने कहा था कि भारत में पेगासस स्पाइवेयर के जरिए 300 से अधिक मोबाइल नंबरों की संभवत: निगरानी की गयी। इसमें दो मंत्री, 40 से अधिक पत्रकारों, तीन विपक्षी नेताओं के अलावा कार्यकर्ताओं के नंबर भी थे। सरकार ने इस मामले में विपक्ष के सभी आरोपों को खारिज कर दिया है। 

चिदंबरम बोले- पीएम मोदी को संसद में बयान देना चाहिए, जासूसी हुई या नहीं बताना चाहिए
 

 

 


 

comments

.
.
.
.
.