Thursday, Aug 18, 2022
-->
chief of defence staff cds general bipin rawat  still stress on lac pragnt

लद्दाख: चीन के साथ तनातनी के बीच बोले CDS बिपिन रावत, LAC पर बदलाव स्वीकार नहीं

  • Updated on 11/6/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पूर्वी लद्दाख (Eastern Ladakh) में चीन (China) के साथ जारी तनाव के बीच एक बार फिर कोर कमांडर स्तर की बातचीत हो रही है। इस बीच चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत (Bipin Rawat) ने कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास हालात अब भी तनावपूर्ण बने हुए हैं।

CDS जनरल रावत ने रक्षा पीएसयू में सुधार का समर्थन किया

एलएसी पर बदलाव स्वीकार नहीं- CDS
सीडीएस रावत ने कहा कि चीन की जनमुक्ति सेना (PLA) लद्दाख में अपने दुस्साहस को लेकर भारतीय बलों की मजबूत प्रतिक्रिया के कारण अप्रत्याशित परिणाम का सामना कर रही है। रावत ने कहा, 'हमारा रुख स्पष्ट है कि हम वास्तविक नियंत्रण रेखा में कोई बदलाव स्वीकार नहीं करेंगे।' उन्होंने कहा कि पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर हालात अब भी तनावपूर्ण बने हुए हैं।

जनरल नरवणे ने कहा- LAC पर स्थिति नाजुक, सेना हर चुनौती के लिए तैयार

ठंड में भारत के लगभग 50,000 सैनिक तैनात
रावत ने कहा कि सीमा पर झड़पों और बिना उकसावे के सैन्य कारवाई के बड़े संघर्ष में तबदील होने की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता। उल्लेखनीय है कि पूर्वी लद्दाख में हाड़ जमा देने वाली ठंड में भारत के लगभग 50,000 सैनिक किसी भी स्थिति से निपटने के लिए पर्वतीय ऊंचाइयों पर तैनात हैं। छह महीने से चले आ रहे इस गतिरोध को लेकर दोनों देशों के बीच पूर्व में हुई कई दौर की बातचीत का अब तक कोई ठोस परिणाम नहीं निकला है।

जनरल बिपिन रावत ने चीन के साथ पाकिस्तान को भी चेताया

भारत- पाकिस्तान के संबंध खराब
अधिकारियों के अनुसार चीनी सेना ने भी लगभग 50,000 सैनिक तैनात कर रखे हैं। भारत कहता रहा है कि सैनिकों को हटाने और तनाव कम करने की जिम्मेदारी चीन की है। रावत ने साथ ही कहा कि जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान के लगातार छद्म युद्ध और भारत के खिलाफ दुष्ट बयानबाजी के कारण भारत और पाकिस्तान के संबंध और भी खराब हो गए हैं। 

नरवणे पहुंचे नेपाल, सेना के जनरल की मानद उपाधि से हुए सम्मानित

राजनाथ सिंह ने क्या कहा?
वहीं देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने गुरुवार को कहा था कि भारत ‘एकपक्षवाद और आक्रामकता’ से अपनी संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा करने के लिए प्रतिबद्ध है। सिंह का यह बयान उस समय में आया है जब पूर्वी लद्दाख में सीमा पर चीन के साथ सात महीने से जारी गतिरोध की स्थित बनी हुई है। उन्होंने कहा था, भारत संवाद से मतभेदों के शांतिपूर्ण समाधान को महत्व देता है और सीमा पर शांति कायम रखने से जुड़े विभिन्न समझौतों का सम्मान करने के लिए प्रतिबद्ध है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.