Tuesday, Jun 22, 2021
-->
china-erects-new-tents-posts-again-at-the-clash-site-prsgnt

India-China Face-Off: जिस चौकी को हटाने में 20 जवान हुए शहीद, उसी को चीन ने फिर खड़ा किया

  • Updated on 6/25/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत और चीन के बीच गलवान घाटी में जिस चौकी को लेकर हिंसक संघर्ष में 20 भारतीय सैनिक शहीद हुए थे, उसी चौकी को चीनी सैनिकों ने फिर से खड़ा कर लिया है। विवाद के बाद हुई कोर कमांडर स्तर की बातचीत में दोनों पक्षों के बीच सीमाओं से पीछे हटने की सहमति बनी थी।

इस सहमती पर भारत के सैनिक सीमाओं में लौट गये थे लेकिन चीन अपनी धोखा देने की आदत से बाज नहीं आया। हालांकि भारत अब यह समझ चुका है कि चीन अपनी कही हुई बात पर नहीं टिकता इसलिए सेना ने भी अपनी तरफ से पूरी तैयारी कर ली है।

चीन ने भारत के खिलाफ फैलाया प्रॉपगैंडा, रूस से कहा- न करें हथियारों की सप्लाई

चीन ने शुरू की नई करामात
धोकेबाज चीन अब पूर्वी लद्दाख के कुछ नए हिस्सों में लामबंदी करने की कोशिश में लगा है, जो ये संकेत दे रहा है कि चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी, दौलत बेग ओल्डी डेपसांग सेक्टरों में नया खूंटा गाड़ने की तैयारी में है।

इस बारे में सेटेलाइट की तस्वीरों से शंका और बढ़ गई है। इन तस्वीरों में देखा जा सकता है  कि चीनियों ने हिंसक संघर्ष वाली जगह फिर चौकी खड़ी कर ली है। इसी चौकी को हटाने के लिए भारत के 20 बहादुर जवान शहीद हो गए थे।

अमेरिका ने दिया चीन को बड़ा झटका! ट्रेड डील हुई खत्म, दुनियाभर के शेयर बाजार में आई भारी गिरावट

चीन के बढ़ते हौसले
सिर्फ इतना ही बस नहीं है, चीन ने अब पूर्वी लद्दाख के कुछ नए हिस्सों में मोर्चा लगाने की तैयारी की है। अनुमान है कि चीनी अब डेपसांग सेक्टरों में नया मोर्चा खोलने की तैयारी में है। डेपसांग वहीँ इलाका है जहां पर चीन की सेना ने 2013 में घुसपैठ की थी।

हालंकि इस बारे में बताया जाता है कि चीन ने यहां 2016 से पहले ही बेस बनाए थे लेकिन अब सेटेलाइट तस्वीरों से पता चल रहा है कि यहां पर नए कैंप और वाहनों के लिए नए ट्रैक बनाए गए हैं। इतना ही नहीं इस बारे में जमीनी ट्रैकिंग भी की गई और इसमें भी यही पुष्टि हुई है।

गलवान के बाद भारत ने चीन के खिलाफ उठाए ये सख्त कदम, बौखला जाएगा अब चीन

भारत एक कदम आगे
धोखेबाज़ चीन की इस हरकत के बाद भी भारत उससे एक कदम आगे हैं क्योंकि भारत ने मई के अंत में ही यह जान लिया था कि चीन अगली लामबंदी डेपसांग में कर सकता है। इसी  के मद्देनजर भारतीय सैनिकों ने इस क्षेत्र में मई के अंत से ही अपनी मौजूदगी पुख्ता कर ली थी।

इस बारे में सेना प्रमुख एमएम नरवणे ने भी अग्रिम चौकियों पर जाकर सेना की तैनाती की जांच कर ली है और चीन को चौतरफा घेरने के लिए भारतीय सेना ने एलएसी पर भीष्म टी-90, टी-72 अजय और मुख्य युद्धक टैंक अर्जुन तैनात कर दिए हैं।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें-

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.