Thursday, Jan 23, 2020
china establishes internet courts

चीन के रोबोट कर रहे हैं कई Pending केसों की सुनवाई

  • Updated on 12/9/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। अब रोबोट भी कोर्ट (Court) के केसों को सुलझाने का काम करने लगे है। और इस दिशा मे चीन (China) ने अपना योगदान देकर दुनिया (World) के सामने एक मिसाल काम की हैं। दुनिया भर में अपने अलग-अलग आविष्कारों और अनोखे तरीकों के लिए जाने वाले देश चीन ने एक अनोखी  तरीका ढूंढ निकाला है जिसके माध्यम से वह Pendig केसों की सुनवाई कर रहा हैं।

कैसे कर रहे हैं यह रोबोट सुनवाई
चीन ने ई-कोर्ट खोल के एक अलग मिसाल कायम करी है इसमें ब्लॉकचेन, क्लाउड, कंप्यूटिंग सोशल, मीडिया और नकली खुफिया टेक्नोलॉजी के के साथ इस्तेमाल किया जा रहा हैं।

साइंटिस्ट ने बनाई एक नई किस्म की प्रजाती तस्वीर देख हैरान रह जाएंगे आप 

पहला  इंटरनेट साइबर रोबोट की स्थापना हुई
चीन ने अगस्त 2017 में पहले इंटरनेट साइबर रोबो कोर्ट  की स्थापना करी। चीन के इसी कोड में पहले ही महीनों में 12074 मामले आए जिसमें से उन्होंने 10391 केसों का फैसला सुना दिया है।  इस केस में पेशी वीडियो चैट के जरिए होती है।

अबू धाबी में प्रदर्शित की गई 8000 साल पुरानी 'बेशकीमती मोती'

कौन से मामला सुलझा आता है यह ई कोर्ट
यह ई-कोर्ट केवल ऑनलाइन कारोबार के विवाद, कॉर्पोरेट के मामले, इकॉमर्स प्रोडक्ट Liability, Copy right के मामले ही सुलझाता है। इसको में सबसे ज्यादा मामले ऑनलाइन रजिस्टर्ड जो होते हैं वह मोबाइल भुगतान और ई-कॉमर्स (E-commerce) के साथ संबंध रखते हैं।

चीन के किस शहर में है इसकी स्थापना
यह Hangzhou में इंटरनेट कोर्ट की स्थापना करने के बाद बीजिंग और Guangzhou मे इसके कई चैंबर्स खोले गए। और इन तीनों अदालतों में कुल मिलाकर एक लाख 17064 मामले दर्ज हुए जिसमें से 8841 मामलों का निपटारा कर दिया गया है।

इस IAS अफसर को नरेंद्र मोदी से भी ज्यादा मिलते हैं लाइक और कमेंट

सकारात्मक नतीजे आ रहे सामने
चीन द्वारा स्थापित ई कोर्ट मे रजिस्टर्ड हुए केस के मामले सकारात्मक रूप से सामने आ रहे हैं। केस फाइल करने के बाद केवल 38 दिनों तक इनका निपटारा कर दिया जाता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.