Wednesday, Oct 05, 2022
-->
china has spread 5 epidemics in the world in the last 20 years people lost their lives prshnt

चीन पिछले 20 साल में दुनिया में फैला चुका है 5 महामारी, जानें कितने लोगों ने गंवाई जान

  • Updated on 5/14/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दुनिया में कोरोना वायरस का खतरा तेजी से बढ़ रहा है, इस वायरस से विश्व में अब तक 4,317,767 लोग संक्रमित हो चुके हैं वहीं 295,639 लोगों की मौत हो चुकी है और ठीक होने वालों की संख्या 1,543,738 है। इस जानलेवा महामारी की शुरुआत चीन के वुहान शहर से हुई थी, जिसे लेकर चीन और अमेरिका में तकरार जारी है। अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रॉबर्ट ओ ब्रायन ने हाल ही में कहा कि बीते 20 साल में चीन से पांच महामारी की उत्पत्ति हुई है, इसलिए इससे किसी ना किसी बिंदु पर रोकना होगा।

कांग्रेस नेता ने दी भगोड़े नीरव मोदी की गवाही, BJP ने पूछा- क्या है राहुल गांधी से रिश्ता 

चीन से निकलने वाले महामारियों को अब नहीं सहा जाएगा
दुनियाभर में लाखों लोगों की जान ले चुके कोरोना वायरस के लिए हर देश चीन को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। जिसे लेकर रॉबर्ट ओ ब्रायन ने व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से बात करते हुए कहा की अब चीन की सरकार से दुनिया भर के लोग कहेंगे की चीन से निकलने वाले इन महामारियों को अब सहन नहीं किया जाएगा। चाहें वह पशु बाजार से निकले या प्रयोगशाला से निकले।

दिल्ली एयरपोर्ट से नोएडा आने के लिए टैक्सी सेवा की गई शुरु मगर किराया 10,000 रुपए

चीन से पांच महामारी
एनएसए ने बताया कि बीते 20 साल में चीन से निकलने वाले पांच महामारी के बारे में बताएं जो कि सार्स, एवियन फ्लू, स्वाइन फ्लू और अब कोविड-19 है। इन सभी भयावह बीमारियों की शुरुआत चीन में हुई और फिर पूरी दुनिया में फैल गई जहां इसने लोगों की जिंदगी तबाह की।

रॉबर्ट ओ ब्रायन ने इसमें चीन से निकलने वाले पांचवे महामारी की बात नहीं की है। रॉबर्ट ओ ब्रायन ने कहा कि इस महामारी को रोकना बहुत ही जरूरी है, इसके लिए हमने चीन में स्वास्थ्य पेशेवरों को भेजने का प्रस्ताव रखा था जिसे चीन ने अस्वीकार कर दिया।

CM अशोक गहलोत का कलेक्टरों को निर्देश, सांसदों-विधायकों से पूछकर तैयार करें पेयजल योजना

सार्स महामारी
सार्स बीमारी की शुरुआत 2002 नवंबर से जुलाई 2003 के बीच दक्षिणी चीन में इसका प्रकोप आरंभ हुआ था। इस वायरस के कारण दुनिया भर में 8,098 लोग संक्रमित हुए थे और इस खतरनाक वायरस से मरने वालों की संख्या 775 थी। इस वायरस ने सबसे ज्यादा नुकसान हांगकांग को पहुंचाया था। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार यह वायरस दुनिया के 37 देशों को प्रभावित किया था। जिसमें चीन, हांगकांग, कनाडा, ताइवान, सिंगापुर, वियतनाम, मलेशिया जैसे देश शामिल है।

एवियन इनफ्लुएंजा
एवियन इनफ्लुएंजा नामक यानी H5N1 वायरस बर्ड फ्लू के नाम से भी जाना जाता है। इसकी शुरुआत चीन से बताई जाती है। 2017 में विश्व स्वास्थ्य संगठन को चीन ने 1789 संक्रमण मामलों की सूचना दी थी। जिसमें उसी साल दिसंबर के अंत तक 35 लोगों की मौत हो चुकी थी। भारत में इस वायरस ने झारखंड, बिहार और उड़ीसा में खूब प्रकोप मचाया। एवियन इनफ्लुएंजा मुख्यत पक्षियों द्वारा अनुकूलित वायरस है।

इनफ्लुएंजा वायरस तीन प्रकार के होते हैं इनफ्लुएंजा ए वायरस एक प्रकृतिक संक्रमण है जिसमें लगभग पूरी तरह से पक्षियों में प्राकृतिक से होता है।

Lockdown 3.0 का सख्ती से पालन, पुलिस ने बेवजह घूमते लोगों को पकड़ा

स्वाइन फ्लू
स्वाइन फ्लू सूअरों में पाया जाता है ये दुनिया भर के सूअर आबादी में आमतौर से पाया जाता है। स्वाइन फ्लू शुरुआत चीन से बताई जा रही है1 यह संक्रमण सूअर से फैलता है। मौजूदा समय में कोरोना संकट के बीच फ्रीकी स्वाइन फ्लू असम में कहर बरपा रहा है। जिससे अब तक 10 जिलों में 14000 से अधिक सूअर इसकी चपेट में आ चुके हैं।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.