Friday, May 14, 2021
-->
china-hypersonic-jet-engine-16-times-speed-of-sound-prsgnt

चीन ने तैयार किया दुनिया में कहीं भी 2 घंटे में पहुंचाने वाला जेट इंजन, इतनी तेज होगी रफ्तार....

  • Updated on 12/2/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। कोरोना महामारी में चीन (China) नए-नए प्रयोग और आविष्कार कर रहा है। एक तरफ चीन ने चांद पर अपना मानवरहित स्पेसक्राफ्ट उतारा है तो वहीँ, चीन ने ध्वनि की रफ्तार से भी 16 गुना ज्यादा तेज उड़ने वाले एक हाइपरसोनिक जेट इंजन को तैयार किया है। 

चीन ने दावा करते हुए कहा है कि यह जेट इंजन दुनिया में अपने तरह का इकलौता है। इस दावे में यह भी कहा गया है कि इस जेट इंजन की रफ्तार साउंड यानी ध्वनि की रफ्तार से 16 गुना ज्यादा तेज होगी। इतना ही नहीं चीन का ये भी दावा है कि अगर इस जेट को किसी विमान में फिट किया जाएगा तो यह दुनिया में कहीं भी दो घंटे में पहुंचा सकता है।

Corona महामारी के बीच चांद पर उतरा चीन का स्पेसक्राफ्ट, जांच के लिए पृथ्वी पर लाएगा ये सब....

गौरतलब है कि ध्वनि की रफ्तार 1234.8 km/h घंटे होती है। यानी यह जेट इंजन इसके भी 16 गुना तेज उड़ सकता है। इस बारे में साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की रिपोर्ट की माने तो चीन ने नए जेट इंजन को सोडरंजेट (Sodramjet) नाम दिया है।

चीन की राजधानी बीजिंग की एक सुरंग में इस सुपर जेट इंजन का परीक्षण किया गया। इस परीक्षण के दौरान जेट इंजन सुरंग में अपनी अनुमानित अधिकतम रफ्तार तक पहुंचने में कामयाब रहा। इस बारे में रिसर्चर्स का कहना है कि परंपरागत रनवे से उड़ान भरने वाले विमानों में भी इस इंजन को लगाया जा सकता है, जिससे उनकी उड़ान बढ़ सकती है।  

कोरोना संकट के बीच चीन पहुंचा चांद पर, मून मिशन का का टेस्ट हुआ सफल

रिसर्चर्स ने बताया कि इस जेट की मदद से उड़ान भरने के बाद यह विमान एक खास ऑरबिट में पहुंचेगा और फिर वापस लैंडिंग के वक्त धरती के वायुमंडल में आ जाएगा। चीन यह मान कर चल रहा है कि अगर ये इंजन आगे के परीक्षणों में भी सफल रहता है तो इसका इस्तेमाल मिलिट्री भी कर सकती है। इस जेट की मदद से बेहद खतरनाक हथियार तैयार किए जा सकते हैं। 

वहीं, साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट के अनुसार, उन्हें एक एक्सपर्ट ने बताया कि नए जेट इंजन से जुड़ी जो स्टडी पब्लिश की गई है उसमें इस बात का विशेष ध्यान रखा गया है कि तकनीक में इस्तेमाल किये गए सीक्रेट पब्लिक ना हो। 

चंद्रयान-1 की खोज के 11 साल बाद NASA वैज्ञानिकों को चांद पर मिला पानी, हो सकता है पीने लायक...

रिसर्चर्स ने यह भी कहा है कि नई टेक्नोलॉजी का रिव्यू भी वैज्ञानिकों ने कर लिया है। वैज्ञानिकों ने बताया कि इस इंजन में इंधन के लिए हाइड्रोजन गैस का इस्तेमाल किया गया है। इस इंजन को बनाने में चाइनीज अकेडमी ऑफ साइसेंज के प्रोफेसर जिआंग जोंगलिन ने एक्सपर्ट्स की टीम का नेतृत्व किया है।

यहां पढ़ें अन्य खबरें 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.