Sunday, Dec 05, 2021
-->
china-is-not-deterred-by-its-antics-combat-aircraft-and-soldiers-deployed-near-gujarat-border-prsgnt

अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा चीन, गुजरात सीमा के पास तैनात किए लड़ाकू विमान और सैनिक

  • Updated on 12/9/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। भारत-चीन (India-China) के बीच पूर्वी लद्दाख सीमा पर जारी विवाद थमता नहीं नजर आ रहा है चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा और एक बार फिर अपना रंग दिखाना शुरू कर दिया है। चीन ने अब पाकिस्तान (Pakistan) की सेना के साथ सैन्य अभ्यास करने की योजना बनाई है और इसके लिए उसने गुजरात सीमा के पास बने पाकिस्तानी एयरबेस के लिए लड़ाकू विमान और सैनिक रवाना भी कर दिया है। 

इस युद्ध अभ्यास को लेकर पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने अपने बयान में कहा है चीनी वायु सैनिकों ने अभ्यास शाहीन (ईगल) IX में भाग लेने के लिए पाकिस्तान के भोलारी में मौजूद पाकिस्तानी वायु सेना के एयरबेस के लिए उड़ान भरी है। 
बयान में कहा गया है कि पाकिस्तान और चीनी वायु सेना का संयुक्त अभ्यास है, यह अभ्यास दिसंबर के अंत में समाप्त होगा। 

कृषि कानून को वापस लेने के आसार कम, बीच का रास्ता तालाश रही है सरकार

चीन और पाकिस्तान के सैन्य रिश्ते मजबूत
वहीं इससे चीन और पाकिस्तान के सैन्य रिश्ते मजबूत होंगे। बता दें कि भारत से चीन की तनातनी के बाद पाकिस्तान और चीन की नजदीकी कुछ ज्यादा ही बढ़ गई है और पाकिस्तान में चीनी आधिकारियों का दौरा लगाता जारी है। 

 वहीं दूसरी ओर अमेरिका के नए राष्ट्रपति जो बाइडन  ने अपनी चीन नीति पर बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने एक अमेरिकी अखबार से बात करते हुए चीन पर बोला है कि वह अभी चीन को लेकर अपनी नीतियों में कोई बदलाव नहीं करने वाले हैं। यह यह बात टैरिफ पर भी लागू होती हैं। उन्होंने साफ कह दिया कि वह अभी चीन के साथ उसे टैरिफ विवाद में राहत नहीं देने वाले हैं। 

सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 151 अंक की बढ़त से नए रिकॉर्ड पर, मारुति के शेयर में आई उछाल

कुछ सौदा रद्द नहीं करने वाले
चीन के साथ व्यापारिक सौदे पर जो बाइडन ने कहा है कि वह अभी कुछ सौदा रद्द नहीं करने वाले हैं। वह कहते हैं कि अमेरिका चीन के साथ अपने भू-राजनीतिक लाभ को भविष्य में अधिकतम रखना चाहेंगे। वह कहते हैं कि मैं अभी कोई तत्कालिक निर्णय नहीं लेने वाला हूं और शुल्क पर भी यह बात लागू होती है। 

बाइडन ने बुधवार को प्रकाशित फ्रीडमैन के आलेख में कहा कि मैं पूर्वाग्रह से ग्रस्त निर्णय नहीं लेने जा रहा हूं। वह कहते हैं कि वह अमेरिकी कांग्रेस से प्रार्थना करना चाहते हैं कि कोरोना से पीड़ित अमेरिकी लोगों की मदद से लिए बड़ा राहत पैकेज तैयार करें। वह कहते हैं कि मुसीबत की घड़ी में अमेरिकी कांग्रेस को एक साथ आना चाहिए।  

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.