Sunday, Jun 04, 2023
-->
china made it clear currently no indian soldier is kept in custody rkdsnt

चीन ने किया साफ- मौजूदा समय में किसी भारतीय जवान को हिरासत में नहीं रखा

  • Updated on 6/19/2020


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चीन ने 15 जून को गलवान घाटी में झड़प के बाद कुछ भारतीय बलों को हिरासत में लिए जाने की खबरों के बीच शुक्रवार को कहा कि ‘‘इस समय ’’ कोई भारतीय जवान उसकी हिरासत में नहीं है। भारतीय सेना ने कहा है कि पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी बलों के साथ जिन भारतीय जवानों की झड़प हुई थी, उनमें से कोई लापता नहीं है। इसके एक दिन बाद चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने यह बयान दिया। 

वीडियो जारी कर कांग्रेस ने पूछा- हमारे सैनिकों को दुश्मन के पास निहत्था क्यों भेजा गया?

झाओ ने गलवान घाटी में भारतीय एवं चीनी बलों के बीच गतिरोध पर सवालों का जवाब देते हुए यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘जहां तक मेरी जानकारी है, इस समय कोई भारतीय जवान चीन की हिरासत में नहीं है।’’ यह पूछे जाने पर कि क्या भारत ने किसी चीनी जवान को हिरासत में लिया है, ‘‘चीन और भारत राजनयिक एवं सैन्य माध्यमों से मामले को सुलझाने के लिए वार्ता कर रहे हैं। इस समय मेरे पास आपको देने के लिए कोई जानकारी नहीं है।’’ 

चंद्रशेखर आजाद ने पूछा- जय शाह के लिए देश पहले है या पैसा?

घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले लोगों ने नयी दिल्ली में कहा कि दो मेजरों समेत 10 भारतीय जवानों को चीनी सेना ने तीन दिन तक वार्ता के बाद बृहस्पतिवार शाम को रिहा किया। भारतीय एवं चीनी सेनाओं ने गलवान घाटी के आस-पास के इलाके में सामान्य स्थिति बहाल करने और गतिरोध दूर करने के लिए लगातार तीसरे दिन बृहस्पतिवार को मेजर जनरल स्तर की वार्ता की। 

भारत की आपत्ति के बावजूद नेपाल की संसद ने पारित किया नक्शा बदलने संबंधी विधेयक

सोमवार को हुई झड़प नाथू ला में 1967 में हुई झड़पों के बाद दोनों सेनाओं के बीच अब तक का सबसे बड़ा टकराव था। नाथू ला में हुई झड़पों में भारतीय सेना के 80 सैनिक शहीद हुए थे जबकि चीन के 300 से अधिक सैनिक मारे गए थे। 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.