Wednesday, Jan 26, 2022
-->
china-manipulated-covid-19-reports-using-paid-trolls-says-a-report-prsgnt

Corona की सच्चाई छुपाने और लोगों को गुमराह करने के लिए China ने दिए ट्रोल्स को पैसे- Report

  • Updated on 12/21/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चीन ने कोरोना वायरस (Corona virus) के बारे में सच्चाई छुपाने और लोगों को गुमराह करने के लिए पैसे दिए थे। इस बारे में एक रिपोर्ट सामने आई है जिससे यह खुलासा हुआ है। इस रिपोर्ट के अनुसार, सोशल मीडिया पर लोगों को गुमराह करने के लिए चीनी अधिकारियों की ओर से स्थानीय प्रोपगैंडा वर्करों और ऐसे आउटलेट्स को खुफिया निर्देश मिले हुए थे। 

साथ ही ट्रोल्स को इसके लिए पैसे दिए गए थे। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि चीनी अधिकारियों ने कोरोना वायरस पर अपने लिए 'असुविधाजनक खबरों'  को दबाने के लिए चीनी सरकार ने काफी मेहनत की थी।

ब्रिटेन में कोरोना की नई स्‍ट्रेन से मचा कहर, भारत में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की आपात बैठक

क्या कहती है रिपोर्ट
न्यूयॉर्क टाइम्स और एक नॉन-प्रॉफिट इन्वेस्टीगेटिव न्यूजरूम Pro Publica में छपी इस रिपोर्ट के अनुसार, सरकार की लाइन पर चलने वाली खबरों को सोशल मीडिया पर फैलाने के लिए चीनी अधिकारियों ने ट्रोल्स को पैसे दिए और खिलाफ बोलने वाली आवाजों को दबाने के लिए सुरक्षाबलों का इस्तेमाल किया।

रिपोर्ट में बताया गया है कि इन अधिकारियों ने कोरोना आउटब्रेक की चेतावनी देने वाले डॉक्टर ली वेनलियांग की मौत की खबर के पुश नॉटिफिकेशन अलर्ट को यूजर तक न भेजने के आदेश दिए थे। ये वही डॉक्टर हैं जिनकी कोरोना से मौत हो गई थी।  

इतना ही नहीं, इन अधिकारियों ने सोशल मीडिया को ट्रेडिंग टॉपिक्स से दिए और धीरे-धीरे डॉक्टर का नाम गायब करने के निर्देश दिए थे और ध्यान भटकाने वाले मुद्दों को इसकी जगह पर बढ़ावा देने वालों को एक्टिवेट किया था।

अमेरिका: कोविड के दूसरे टीके की शुरूआती खेप हुई रवाना, खुराक देने का काम आज से शुरू

खास तौर पर दिए गए निर्देश 
रिपोर्ट के मुताबिक, न्यूज वेबसाइट और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को निर्देश दिया गया था कि पुश नॉटिफिकेशन न भेजे, पोस्ट कॉमेंटरी न पोस्ट करें, अफवाहों को बढ़ावा न दें। साथ ही, ऑनलाइन डिस्कशन पर नियंत्रण रखें, हैशटैग्स न बनाएं, इन्हें धीरे-धीरे ट्रेंडिंग टॉपिक से हटाएं। नुकसान पहुंचाने वाली सूचनाओं पर सख्ती से नियंत्रण करें।'

अमेरिका: कोविड के दूसरे टीके की शुरूआती खेप हुई रवाना, खुराक देने का काम आज से शुरू

ऑनलाइन मीडिया को मैनिपुलेट
रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन कैसे कोरोना वायरस पर लोगों पर एजेंडा थोपने के लिए ऑनलाइन मीडिया को मैनिपुलेट कर रहा है। इस बारे में समाने आए डॉक्यूमेंट्स से साफ है कि चीन सूचनाओं पर सख्ती से नियंत्रण करने की कोशिश कर रहा है। इसके लिए चीनी सरकार के अधिकारी नौकरशाही, प्राइवेट कॉन्ट्रैक्टर्स की ओर से बनाए गए खास तकनीकी का इस्तेमाल और डिजिटल न्यूज आउटलेट्स और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर कड़ी नजर रख रहा है।

ब्रिटेन में कोरोना की नई स्‍ट्रेन से मचा कहर, भारत में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय की आपात बैठक

मीडिया को मैनिपुलेट किया
वहीँ, इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद, चीन की अमेरिका और दूसरे देशों ने आलोचना की है। हालांकि इस रिपोर्ट में डॉक्यूमेंट के हवाले से बताया गया है कि चीन ने वायरस को कम खतरनाक दिखाने की कोशिश की गई और अपनी अथॉरिटी को सक्षम दिखाने के लिए मीडिया को मैनिपुलेट किया था। 

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.