Friday, Jan 21, 2022
-->
china new drug law can open door for indian generic medicines trade in china

अब भारत की जेनरिक दवाइयों से होगा चीन के लोगों का इलाज

  • Updated on 8/28/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत (India) की जेनरिक दवाएं अब चीन के लोगों के इलाज में सहायक हो सकेंगी। चीन ने अब तक जिन भारतीय जेनरिक दवाओं (Generic  medicine) को फेक मेडिसिन की श्रेणी में रखा हुआ था उन्हें फेक लिस्ट से हटा लिया है। भारत के अलावा अन्य देशों की जेनरिक दवाइयां भी चीन में प्रतिबंधित थी। चीन ने भारत की कुछ जेनरिक दवाओं को ‘नकली दवा’ की सूची से हटा दिया है और 1 दिसम्बर से इनका कम मात्रा में ही सही लेकिन रोगियों द्वारा उपयोग किया जा सकेगा। 

आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को आरक्षण देगी छत्तीसगढ़ सरकार, CM ने लिया फैसला

ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन कानून में संशोधन से हो सकेगा संभव
चीन (China) के नए संशोधित ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन कानून से यह संभव हुआ है। अब तक चीन में सभी विदेशी जेनरिक दवाओं पर प्रतिबंध था और इन्हें नकली दवाओं की श्रेणी में डाला गया था और ये सभी यहां उपयोग करने के लिए अवैध थे। 1 दिसम्बर से इन दवाओं का उपयोग चीनी रोगियों द्वारा किया जा सकता है लेकिन थोड़ी मात्रा में। उन्हें ऐसा करने पर किसी कानूनी प्रक्रिया का भी सामना नहीं करना होगा।

मुंबई के बायकुला लकड़ी मार्केट में लगी आग, दमकल की गाड़ियां राहत कार्य में जुटी

बता दें कि संशोधन से पहले इसके लिए दंड का प्रावधान था। सोमवार को देश की शीर्ष विधायिका नेशनल पीपुल्स कांग्रेस (Congress) के सत्र के अंत में संशोधन को मंजूरी दी गई और इसकी घोषणा की गई। चीन के इस कानून में बदलाव से चीनी लोग अब विशेष रूप से कैंसर जैसी बीमारियों के 

दिसम्बर तक नया कानून लागू होने के आसार 
इलाज के लिए भारत से प्रभावी और सस्ती जेनरिक दवाओं का उपयोग कर सकेंगे। हालांकि, आधिकारिक घोषणा में यह नहीं कहा गया है कि मरीज कैसे मरीज दवा खरीद सकते हैं क्योंकि फार्मेसियों में यह दवा उपलब्ध नहीं है। चीनी सरकार द्वारा संचालित एक न्यूज पोर्टल thepaper.cn के मुताबिक, इस कानून में संशोधन का मतलब है कि अन्य देशों में जेनरिक दवाएं लीगल हैं, मगर चीन में अब भी इस पर हरी झंडी मिलना बाकी है क्योंकि चीन ने सिर्फ इन्हें फेक मेडिसिन की कैटेगरी से हटा दिया है। समाचार पोर्टल की रिपोर्ट में कहा गया है कि नए संशोधित ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन कानून के अनुच्छेद 124 में कहा गया है कि कम संख्या में ऐसी दवाओं के आयात को कानूनी तौर पर (चीन में) बिना मंजूरी के इस्तेमाल को माइनर केसों में सजा से अलग रखा जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.