Friday, Apr 23, 2021
-->
china released propaganda video on galvan clash sohsnt

चीन ने गलवान झड़प पर जारी किया प्रोपेगेंडा वीडियो, भारतीय सैनिकों पर लगाया हमले का आरोप

  • Updated on 2/20/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पूर्वी लद्दाख (East Ladakh) में भारत (India) और चीन (China) के बीच सीमा विवाद को लेकर जारी गतिरोध अब खत्म होता स्पष्ट नजर आने लगा है। ऐसे में जून 2020 में गलवान घाटी में भारतीय सैनिकों और चीनी सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प की बात स्वीकार करने के बाद चीन ने अब एक वीडियो भी जारी किया है। इस वीडियो में मारे गए चीनी सैनिकों को दिखाया गया है। ऐसा माना जा रहा है कि चीन ने एक प्रोपेगेंडा के तहत ये वीडियो जारी किया है, और भारतीय सैनिकों पर पहले हमला करने के बेबुनियादी आरोप लगाए हैं।

चीन का कबूलनामा- भारत की सेना के साथ झड़प में मारे गए थे सैन्य अधिकारी, सैनिक

 

हिंसक झड़प को लेकर चीन ने मानी ये बात
बता दें कि चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) ने शुक्रवार को पहली बार आधिकारिक तौर पर यह स्वीकार किया कि पिछले वर्ष पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में भारत की सेना के साथ हुई झड़प में उसके 5 सैन्य अधिकारियों और सैनिकों की मौत हुई थी। इनमें से एक सैनिक की मौत तब हुई जब वह अन्य को मदद देने के लिए नदी पार कर रहा था।

क्वाड बैठक में कोरोना वायरस और आतंकवाद जैसे मुद्दों पर हुई चर्चा, इन देशों ने लियाहिस्सा

‘पी.एल.ए. डेली’ अखबार में हुआ खुलासा
चीन की सेना के आधिकारिक अखबार ‘पी.एल.ए. डेली’ की शुक्रवार की खबर के  मुताबिक, सैंट्रल मिलिट्री कमीशन ऑफ चाइना (सी.एम.सी.) ने उन सैन्य अधिकारियों और सैनिकों को याद किया और उन्हें विभिन्न उपाधियों से नवाजा जो काराकोरम पहाडिय़ों पर तैनात थे और जून 2020 में गलवान घाटी में भारत के साथ सीमा पर संघर्ष में मारे गए थे।

चीन ने याद किया अपने शहीद सैनिकों को
राष्ट्रपति शी जिनपिंग के नेतृत्व वाली पी.एल.ए. की सर्वोच्च इकाई ने क्वी फबाओ को सीमा की रक्षा करने वाले नायक रैजीमैंटल कमांडर की उपाधि दी है। चेन होंगजुन को सीमा की रक्षा करने वाला नायक तथा चेन शियानग्रांग, शियो सियुआन और वांग झुओरान को 'प्रथम श्रेणी की उत्कृष्टता' से सम्मानित किया गया है। भारत ने घटना के तुरंत बाद अपने शहीद सैनिकों के बारे में घोषणा की थी। 

वहीं पूर्वी लद्दाख में चीन के सैनिकों की वापसी अंतिम चरण में है। धीरे-धीरे चीनी और भारतीय सैनिक अपनी पोस्टों से पीछे हट रहे हैं। एक समिती में वरिष्ठ अधिकारियों ने  एक जानकारी दी है। बता दें इस समीति में चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ बिपिन रावत समेत सेना के तीनों वरिष्ठ अधिकारी भी पेश हुए थे। 

ये भी पढ़ें:

comments

.
.
.
.
.