Thursday, Mar 04, 2021
-->
chinese billionaire ren zhiqiang criticized xi jinping for coronavirus 18 prison prsgnt

Corona Virus को लेकर शी जिनपिंग की आलोचना करने पर चीनी अरबपति को मिली 18 साल की जेल....

  • Updated on 9/22/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग की कोरोना वायरस से निपटने के मामले को लेकर आलोचना करना एक बड़े बिजनेसमैन को भारी पड़ गया। इस बिजनेसमैन को पब्लिकली चीनी राष्ट्रपति की निंदा करने पर भ्रष्टाीचार के आरोप में जेल की सलाखों के पीछे पहुंचा दिया है। 

बताया जा रहा है कि सरकारी रियल एस्टेट कंपनी के पूर्व अध्यक्ष रेन झिकियांग को भ्रष्टाखचार के आरोप में 18 साल के लिए जेल में डाल दिया गया है। इतना ही नहीं झिकियांग को सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी से भी बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था। 

पिछले 15 साल से डेपसांग में नहीं जा पाई है भारतीय सेना, अब चीन का दखल हुआ!

18 साल की जेल और जुर्माना
दरअसल, रेन झिकियांग पर आरोप लगाते हुए पेइचिंग की एक अदालत ने कहा कि झिकियांग भ्रष्टारचार के दोषी पाए गए और उन पर करोड़ों डॉलर की घूस लेने का भी इल्जाम लगा था। इन आरोपों पर जज ने झिकियांग को 18 साल की जेल और छह लाख 20 हजार डॉलर का जुर्माना लगाया था। यहां कोर्ट ने ये भी कहा कि झिकियांग ने खुद ही अपने सभी आरोप मान लिए और उनके पास से इलीगल मनी भी बरामद की गई।  

नौकरी गई तो भीख मांगने को मजबूर हुए 450 भारतीय, सऊदी प्रशासन ने डिटेंशन सेंटर भेजा

सामने आई रिपोर्ट
लेकिन सीएनएन की एक रिपोर्ट के अनुसार इस चीनी अरबपति का गुनाह निश्चित रूप से भ्रष्टागचार नहीं था बल्कि इसने चीनी राष्ट्रपति की कोरोना महामारी को न संभाल पाने को लेकर आलोचना की थी और ऐसा होना कोई नया नहीं है। चीनी सरकार के खिलाफ बोलने वालों के खिलाफ अक्सर करप्शन आरोप लगा कर उन्हें जेल में डाल दिया जाता है। 

Good News: भारत में नवंबर तक आ जाएगी रूसी कोरोना वैक्सीन, डॉ. रेड्डीज से हुआ करार

लेख लिखना पड़ा भारी
रिपोर्ट के अनुसार रेन पर आरोप लगने तब शुरू हुए जब उन्होंने एक लेख ऑनलाइन पब्लिश किया। रेन अक्सर ही प्रेस सेंसरशिप और दूसरे सेंसटिव मामलों पर लिखते रहते हैं। अपने जूनून के चलते ही रेन ने मार्च में एक लेख ऑनलाइन पब्लिश किया जिसके बाद उन्हें फिर सार्वजनिक रूप से नहीं देखा गया। 

FACEBOOK पर INSTAGRAM के जरिए डेटा चुराने का आरोप, PHONE कैमरे के जरिए चुराया गया निजी डेटा

रेन ने लगाए थे आरोप 
दरअसल, इस लेख के जरिये रेन ने चीनी राष्ट्रपति पर आरोप लगाते हुए लिखा था कि वुहान से शुरू हुआ कोरोना वायरस के प्रकोप को चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग संभाल नहीं पाए। जिसके बाद बिजनेसमैन रेन पर भ्रष्टाचार, गबन, रिश्वत लेने और सरकार के स्वामित्व वाली एक कंपनी में अपने पद का दुरुपयोग करने का आरोप लगा था।

देश के 10 हजार लोगों की निगरानी कर रही China कंपनी पर कसेगा शिकंजा, सरकार ने लिया ये फैसला

वेबसाइट ने क्या लिखा 
इस बारे में बीजिंग में शीचेंग जिले के अनुशासन निरीक्षण आयोग ने अपनी वेबसाइट पूरा मामला दर्ज किया गया है।अनुशासन निरीक्षण आयोग की इस वेबसाइट पर लिखा गया है कि हॉयुआन समूह के पूर्व अध्यक्ष और पार्टी के उप सचिव को सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी से निकाल दिया गया है।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें-

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.