Tuesday, Dec 07, 2021
-->
chinese doctors already knew how dangerous sohsnt

कोरोना पर चीन की चाल का पर्दाफाश, डॉक्टर जानते थे कितना खतरनाक है वायरस लेकिन...

  • Updated on 1/20/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। चीन (China) के वुहान शहर से निकले कोरोना वायरस (Coronavirus) से आज भारत समेत दुनियाभर के कई देश जूझ रहे हैं। अब तक कई रिपोर्ट्स में यह कहा जा चुका है कि चीन अगर चाहता तो इस महामारी को फैलने से रोक सकता था और न सिर्फ खुदको बल्कि दुनियाभर के कई देशों की आर्थिक स्थिति बिगड़ने से बचा सकता था, लेकिन चीन ने ऐसा नहीं किया। इस पूरे मामले में चीन की शुरू से ही संदिग्ध भूमिका रही है। चीन पर लग रहे आरोप तब और मजबूत हो गए जब चीन के ही कुछ डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों ने खुफिया कैमरों पर सच बोलकर चीन की चाल को बेनकाब कर दिया।

कोरोना से जंग में ग्लोबल लीडर बनकर उभरा भारत, पड़ोसी देशों को दान करेगा टीके की 1 करोड़ खुराक

यूके की न्यूज वेबसाइट ने किया चौंका देने वाला खुलासा
दरअसल, यूके की न्यूज वेबसाइट मिरर (Mirror) ने एक चौंका देने वाला खुलासा करते हुए कहा कि चीन के वुहान के कुछ स्वास्थ्य कर्मियों ने बताया कि उन्हें कोरोना वायरस के शुरुआती दौर में ही पता था कि ये संक्रमण कितना खतरनाक है और चीन में कितनी तेजी से फैल रहा है, लेकिन उन्हें झूठ बोलने के लिए कहा गया था। उन्हें कहा गया था कि वे इस वायरस को लेकर कुछ भी कहने से बचें। 

अर्नब की वायरल चैट पर बौखलाए इमरान, नरेन्द्र मोदी सरकार पर लगाए यह गंभीर आरोप

अस्पतालों को ये सच बताने से किया गया मना
रिपोर्ट में बताया गया है कि यह वायरस कितना खतरनाक है इस बात का अंदाजा दिसंबर 2019 में ही लग गयी था, लेकिन डब्ल्यूएचओ (WHO) को इस वायरस की भयाभवता की जानकारी जनवरी महीने के मध्य में दी गई कि ये लोगों की जान ले रहा है। उन्होंने बताया कि ये वायरस तेजी से एक से दूसरे इंसान में फैल रहा है, लेकिन अस्पतालों को ये सच बताने के लिए मना किया गया है।

डॉक्युमेंट्री  में हुआ बड़ा खुलासा 
बता दें कि आईटीवी की एक डॉक्युमेंट्री 'आउटब्रेक: द वायरस दैट शूक द वर्ल्ड' में वुहान के डॉक्टरों ने कोरोना के दौरान चीन में किस तरह तबाही का मंजर था इस बारे में बताया। उधर, अमेरिका ने एक रिपोर्ट में स्पष्ट किया है कि कोरोना वायरस वुहान लैब से ही लीक हुआ है। 

चीन और डब्ल्यूएचओ को बताया कोरोना के लिए जिम्मेदार
इसके अलावा हाल ही में एक स्वतंत्र पैनल 'इंडिपेंडेंट पैनल फॉर पैन्डेमिक प्रिपेयर्डनेस एंड रिस्पॉन्स' की ओर से जारी एक रिपोर्ट में कहा गया कि चीन अगर चाहता तो समय रहते कोरोना वायरस को दुनियाभर में फैलने से रोक सकता था, लेकिन उसने ऐसा नहीं किया। इसके अलावा विश्व स्थास्थ्य संगठन का भी इसके लिए जिम्मेदार माना गया है, क्योंकि जब चीन में कोरोना वायरस का पहला मामला रिपोर्ट किया गया था, तब विश्व स्वास्थ्य संगठन बीजिंग के साथ मिलकर इसे खत्म करने की दिशा में तेजी से काम कर सकते थे, लेकिन उन्होंने भी इसे दरकिनार किया, जिसका खामियाजा आज पूरी दुनिया भुगत रही है।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.