Tuesday, Apr 13, 2021
-->
chinese-eat-placenta-for-medicinal-use-prsgnt

खाने में सबसे आगे हैं चीनी, जानवर ही नहीं बल्कि इस फायदे के लिए मां का गर्भनाल भी खा जाते हैं

  • Updated on 6/22/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत और चीन के बीच गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद चीन को लेकर देशभर में गुस्सा है, न सिर्फ भारत में बल्कि दूसरे देश भी चीन को कोरोना वायरस फैलाने को लेकर दोषी मनाता आया है। कई देश मानते हैं कि चीनी सब कुछ खा सकते हैं। सिर्फ जानवर ही नहीं वो कुछ भी खा जाते हैं।

हालांकि इस बारे में चीनियों का कहना है कि वो सिर्फ मांस खाते हैं। लेकिन असलियत तो ये है कि चीनी सिर्फ मांस ही नहीं बल्कि मां का गर्भनाल तक खा जाते हैं। ये बेहद चौंकाने वाली बात है लेकिन कुछ रिपोर्ट्स इस बारे में दावा कर चुकी हैं।

गलवान के बाद भारत ने चीन के खिलाफ उठाए ये सख्त कदम, बौखला जाएगा अब चीन

गर्भनाल खाते हैं चीनी
चीनी इसे एक प्रैक्टिस बताते हैं जिसे प्लेसेंटोफगी Placentophagy कहा जाता है। चीनी मानते हैं कि इसमें काफी पोषक तत्व होते हैं और इसलिये इसे खाना चाहिए। यही कारण है कि चीनी माएं अपना गर्भनाल खा जाती है बल्कि हॉस्पिटल से भी ये चुरा लिए जाते हैं और महंगे दामों पर बेचे जाते हैं।

भारी कीमतों पर खरीद-फिरोख्त
चीनी इस प्लेसेंटा को अपनी परंपरागत दवाओं की तरह ही भारी कीमत पर बेचते हैं। इसका सूप बना कर खाया जाता है। इसे सूखा कर दवा की तरह बेचा जाता है। चीनी मानते हैं कि इसको खाने से महिलाओं को बच्चा जन्म देने के बाद तनाव और डिप्रेशन से छुटकारा मिलता है और पुरुष इसे नपुंसकता के इलाज के लिए इस्तेमाल करते हैं।

यही कारण है कि इनकी कीमत काफी ज्यादा होती है। ये भी कहा जाता है कि चीन में ये अभी से नहीं बल्कि 1500 सालों से खाया जाता है, इसके प्रमाण भी चीनियों के पास हैं।

ट्रंप ने कहा 'कुंग फ्लू' और चीन के खिलाफ शुरू हो गया ट्विटर पर नया ट्रेंड, जानिए क्या है मामला

क्या खाते हैं विशेषज्ञ
भले ही चीनी प्लेसेंटा को खाने के फायदे बताता है लेकिन इसको लेकर अभी तक कोई मेडिकल प्रमाण नहीं मिले हैं बल्कि डॉक्टरों में इसको खाना हानिकारक बताया है क्योंकि इसमें कई वायरस हो सकते हैं। इस बारे में टेक्सास यूनिवर्सिटी अस्पताल का कहना है कि प्लेसेंटा मां से बच्चे तक पहुंचने वाले पोषण को फिल्टर करती है और इसलिए इसें कई खतरनाक बैक्टीरिया और वायरस छिपे होते हैं और इसे खाने से बीमारियां लग सकती है।

'बायकॉट चाइना' मूवमेंट से घबराया चीन, इस तरह देने लगा है धमकी, पढ़े रिपोर्ट

एक शोध ने डराया
प्लेसेंटा खाने को लेकर साल 2016 में  सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) के एक शोध में चौंकाने वाले तथ्य सामने आए है। यह शोध के लिए एक ऐसी ऐसे मां को लिया गया, जिसके बच्चे के खून में गंभीर किस्म का इन्फेक्शन पहले से मौजूद था। शोध में पता चला कि ये बच्चे को तब हुआ जब मां बच्चे के जन्म के बाद रोज प्लेसेंटा से बने कैप्सूल खा रही थी। इस दौरान वो बच्चे को दूध पिलाती थी और इसी वजह से बच्चे तक इन्फेक्शन पहुंच गया।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें-

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.