Friday, Jan 21, 2022
-->
chinese-goods-will-not-be-sold-on-rakhi-and-diwali-musrnt

राखी और दिवाली पर नहीं बिकेगा चीनी सामानः प्रवीण खंडेलवाल

  • Updated on 6/23/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। इस साल रक्षाबंधन, जन्माष्टमी, दिवाली पर चीन से आया कनफेडेरशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने इस वर्ष की राखी को विशुद्ध रूप से भारतीय राखी त्यौहार और दिवाली को सही अर्थों में हिंदुस्तानी दिवाली मनाने की घोषणा की है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे द्वारा उनकी मांग पर महाराष्ट्र सरकार द्वारा चीन की तीन कंपनियों से 5000 करोड़ रुपये के निवेश के समझौते के करार रद्द करने के फैसले को स्वागतयोग्य, देशवासियों की भावनाओं का सम्मान बताते हुए प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि इस वर्ष जनमाष्टमी व राखी भी पूरी तरह से भारत में बनी बांधेंगी।  

तिब्बत को राष्ट्र दर्शाने की मांग उठाई

चीन की गलत हरकत के बाद आरएसएस और उससे जुड़े संगठनों ने चीन के खिलाफ आवाज को बुलंद करना शुरू कर दिया है। संघ के अनुषांगिक संगठन भारत तिब्बत सहयोग मंच ने इसी कड़ी में जनजागरण मार्च निकाला और प्रदर्शन किया। चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग का पुतला और चीनी सामान जलाया। मंच के राष्ट्रीय महामंत्री पंकज गोयल ने चीनी सामान का बहिष्कार करने के लिए लोगों से अपील की। 

गोयल ने मोदी सरकार से मांग करते हुए कहा कि दशकों से चीन द्वारा तिब्बतियों को प्रताडि़त किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भारत के राजनैतिक मानचित्र में तिब्बत को राष्ट्र मानते हुए उसके साथ भारत की सीमा दर्शाई जाए। साथ ही अंतरराष्ट्रीय मंचों पर तिब्बत की आजादी का समर्थन भी भारत सरकार करे। उन्होंने तिब्बत की आजादी व कैलाश मानसरोवर की सुगमता पर भारत की सामरिक नीति के महत्व को भी बताया।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.