Wednesday, Oct 16, 2019
chinmayanand case swami chinmayanand up rape case yogi adityanath

पीड़िता का न्यायालय में बयान दर्ज होने के बाद चिन्मयानंद की तबीयत बिगड़ी

  • Updated on 9/17/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद (swami chinmayanand) पर बलात्कार का आरोप लगाने वाली विधि छात्रा का आज न्यायालय में बयान दर्ज किया गया और इसके बाद चिन्मयानंद की तबीयत देर शाम खासी बिगड़ गई।    

चिन्मयानंद के वकील एवं प्रवक्ता ओम सिंह ने बताया कि पूर्व गृह राज्य मंत्री को कल रात से ही हल्का बुखार था और सोमवार शाम करीब 8:30 बजे उनकी तबीयत अचानक बिगड़ गई। उन्हें सीने में तेज दर्द हुआ और शुगर लेवल बहुत नीचे गिर गया। साथ ही ब्लड प्रेशर भी असामान्य हो गया। मेडिकल कॉलेज के तथा प्राइवेट डॉक्टरों की टीम उनके आवास पर उनका इलाज कर रही है। 

गुजरात सरकार ने ट्रैफिक नियमों का जुर्माना किया कम

मेडिकल कॉलेज के प्रोफेसर डॉक्टर एम एल अग्रवाल ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि स्वामी चिन्मयानंद की तबीयत खराब हो गई है। इसी के चलते हृदय रोग विशेषज्ञ डॉक्टर के सी वर्मा के साथ उन्होंने स्वामी चिन्मयानंद के दिव्य धाम में आकर उनका उपचार कियाद्य इस दौरान एक प्राइवेट र्निसंग होम से चार डॉक्टरों की एक टीम भी बुलाई गई हैद्य फिलहाल उनकी हालत स्थिर है।  

सूत्रों के अनुसार कथित पीड़िता को कड़ी सुरक्षा के बीच न्यायिक दंडाधिकारी (प्रथम) गीतिका सिंह के न्यायालय ले जाकर उसका बयान दर्ज कराया गया। छात्रा ने बताया कि मजिस्ट्रेट ने करीब 12 पेज में उसका बयान दर्ज किया है। उसने दिल्ली में जीरो क्रमांक पर दर्ज रिपोर्ट, उसके हॉस्पिटल के कमरे से चिप और चिन्मयानंद के मालिश वाले वीडियो शूट करने में इस्तेमाल चश्मे के चोरी होने तथा अन्य साक्ष्यों का जिक्र भी अपने बयान में किया है।  

रिश्वत मामले में फरार चल रहे CBI निरीक्षक ने किया आत्मसमर्पण

छात्रा ने यह भी बताया कि स्वामी चिन्मयानंद के बेडरूम से चादर, गद्दा, शराब की बोतलें आदि जो साक्ष्य गायब कर दिए गए थे, उनका जिक्र भी उसने न्यायालय में दिए गए बयान में किया है। इस बीच, शाम को स्वामी चिन्मयानंद की तबीयत खराब हो गई।    

 इस बीच, सूत्रों ने बताया कि विशेष जांच दल (एसआईटी) की टीम ने पीड़िता को स्वामी चिन्मयानंद द्वारा दिलवाई गई एक स्कूटी के संबंध में एजेंसी के मैनेजर को बुलाकर पूछताछ की। इसके अलावा एक मेडिकल स्टोर के स्वामी से भी इस सिलसिले में पूछताछ की गई कि चिन्मयानंद उनके यहां से कौन-कौन सी दवाएं मंगाते थे। वहीं, चिन्मयानंद के समर्थन में कल रविवार को आए एक तथाकथित हिंदू संगठन के अध्यक्ष स्वामी ओम जी एवं मुकेश जैन का शाहजहांपुर में विरोध शुरू हो गया है। कल एक पत्रकार वार्ता में मुकेश जैन ने शाहजहांपुर की बेटियों को विषकन्या बताया था, इसके बाद सोशल मीडिया पर इनका जबरदस्त विरोध हो रहा है।   

केजरीवाल बोले- AAP सरकार की योजनाओं के चलते नहीं चुभ रही है आर्थिक मंदी

छात्र शक्ति संगठन के कार्यकर्ताओं ने कचहरी चौराहे के पास ओम जी का पुतला फूंका और उनकी जीभ काट कर लाने वाले को 50 लाख रुपये के इनाम का ऐलान किया। वहीं, भारतीय युवा परिषद के कार्यकर्ताओं ने स्वामी चिन्मयानंद के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए खिरनी बाग चौराहे पर चिन्मयानंद का पुतला फूंका। इसके अलावा ओम जी के विरुद्ध जिले के कई थानों में विषकन्या के बयान पर रिपोर्ट दर्ज करने के लिए तहरीर दी गई है।   

इस बीच, स्वामी चिन्मयानंद के अधिवक्ता ओम सिंह ने बताया कि चिन्मयानंद के निर्देश पर एक टीम बना दी गई है जो सोशल मीडिया पर उनके विरुद्ध अनर्गल टिप्पणियां कर रहे हैं उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। मालूम हो कि स्वामी शुकदेवानंद विधि महाविद्यालय में एलएलएम की एक छात्रा ने 24 अगस्त को एक वीडियो वायरल करके चिन्मयानंद पर कई लड़कियों की जिंदगी बर्बाद करने एवं उसे तथा उसके परिवार को जान का खतरा बताया था। इसके बाद लड़की लापता हो गई थी। इस मामले में चिन्मयानंद के खिलाफ अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया गया था।    

बाद में राजस्थान में बरामद की गई छात्रा ने चिन्मयानंद पर बलात्कार का आरोप भी लगाया था। इस सिलसिले में उसने पुलिस पर रिपोर्ट दर्ज न करने का इल्जाम भी लगाया था। उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर गठित एसआईटी इस मामले की जांच कर रही है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.