Sunday, Sep 26, 2021
-->
cic seeks response from cbi for refusal information rkdsnt

सूचना से इंकार को लेकर CIC ने CBI से मांगा जवाब

  • Updated on 11/9/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्रीय सूचना आयोग (CIC) ने आरटीआई के एक मामले में सीबीआई से कहा कि अपने जवाब में सिर्फ छूट वाली प्रासंगिक धारा का उल्लेख करके वह सूचना देने से मना नहीं कर सकता। सीआईसी ने कहा कि जांच एजेंसी को सूचना देने से इंकार करते वक्त ठोस कारण देना चाहिये कि ऐसा करने से जांच या आरोपी के खिलाफ मुकदमे पर कैसे असर पड़ सकता है। 

NGT ने NCR में पटाखों की बिक्री और इस्तेमाल पर लगाया पूर्ण प्रतिबंध

सूचना आयुक्त वनजा एन सरना ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) को सूचना का अधिकार (RTI) कानून की धारा आठ (एक) (एच) के छूट के नियमों का जिक्र करते समय ठोस स्पष्टीकरण मुहैया कराने को कहा कि किस तरह सूचना दिये जाने से जांच या मुकदमे पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है। धारा आठ(एक)(एच) के तहत लोक प्राधिकार ऐसी सूचना सार्वजनिक करने से मना कर सकता है, जिसके तहत आरोपी के खिलाफ जांच की प्रक्रिया बाधित होने या मुकदमे पर असर पडऩे की आशंका हो। 

बिहार विधानसभा चुनाव: मतगणना केंद्रों पर CCTV से निगरानी, सुरक्षा कड़ी

दिल्ली उच्च न्यायालय ने भगत सिंह मामले में साफ तौर पर कहा था कि छूट के प्रावधान का जिक्र करना ही पर्याप्त नहीं है तथा लोक प्राधिकार को स्पष्ट करना होगा कि कैसे सूचना का खुलासा करने से यह धारा लागू होगी क्योंकि सूचना देना नियम है और इसे नहीं देना अपवाद है।

बिहार विधानसभा चुनाव : टुडेज चाणक्य के एग्जिट पोल में NDA पर भारी महागठबंधन

सरना आरटीआई याचिकाकर्ता के एक आवेदन पर सुनवाई कर रही थीं। याचिकाकर्ता ने चेन्नई में एमएसएमई विकास संस्थान में सीबीआई की प्रारंभिक जांच की स्थिति के बारे में जानना चाहा था।      सीबीआई ने कई मामलों में इस धारा का उल्लेख करते हुए सूचना देने से इनकार कर दिया और यह भी नहीं स्पष्ट किया कि सूचना के खुलासे से जांच या मुकदमे पर किस तरह असर पड़ेगा। 

फिल्म निर्माता नाडियाडवाला की पत्नी को NCB ने किया गिरफ्तार

सूचना आयुक्त ने आरटीआई आवेदक एस हरीश कुमार की दलील से सहमति जतायी कि स्थिति के बारे में बताने से और मामले के परिणाम से जांच प्रक्रिया पर असर नहीं पड़ेगा। सरना ने सीबीआई के सीपीआईओ को आरटीआई की धारा आठ (एक)(एच) के संबंध में च्च्ठोस स्पष्टीकरणज्ज् के साथ संशोधित जवाब देने का निर्देश दिया। इसके साथ ही सीबीआई को याचिकाकर्ता को मामले की स्थिति और परिणाम संबंधी सूचना भी मुहैया कराने को कहा गया।

वित्तीय संकट में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी, शिक्षकों ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र

 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...


 

comments

.
.
.
.
.