Sunday, Jan 26, 2020
citizenship-amendment-bill-2019-amit-shah-asaduddin-owaisi-rajyasabha

जानिए क्या कहते हैं आकड़े, राज्यसभा में कल नागरिकता संशोधन विधेयक पास होगा या फेल ?

  • Updated on 12/10/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। देश में इस समय चारों तरफ नागरिकता संशोधन बिल 2019 (citizenship amendment bill 2019) की चर्चा जोरों पर है। सोमवार देर रात संसद के निचले सदन लोकसभा में गृहमंत्री अमित शाह (Amit shah) की अगुवाई में यह बिल पास हो चुका है। जिसके बाद पूरे देश में कुछ लोग इस बिल का विरोध कर रहे हैं तो वहीं कुछ लोगों में खुशी की लहर देखी जा सकती है।  
नागरिकता बिल: नीतीश कुमार को जदयू कार्यकर्ताओं ने बताया धोखेबाज, पार्टी कार्यालय में की तोड़फोड़

बता दें कि इस बिल का अगला पड़ाव राज्यसभा (Rajyasabha) है अगर यह वहां से भी पास हो जाता है तो उसके बाद राष्ट्रपति के हस्ताक्षर के बाद यह कानून बन जाएगा। ऐसे में अब पूरे देश की नजर इस बिल पर है। यह तो सबको पता है कि लोकसभा में तो मोदी सरकार के पास स्पष्ठ बहुमत है लेकिन राज्यसभा में सरकार का हाथ थोड़ा ढीला है। इसलिए कयास लगाए जा रहे है विपक्ष इस बिल को राज्यसभा में रोक दे। मगर  फिर भी सत्ताधारी दल को पलड़ा इस पर भारी ही दिखता है। ममता के तेवरों के बीच राज्यपाल धनखड़ की धमक, जानें वकालत से सियासत तक का सफर

बता दें कि एक अनुमान के अनुसार सत्ताधारी दल को 240 सदस्यों की प्रभावी संख्या वाली राज्यसभा में इस विधेयक पर मतदान में 124-130 वोट मिल सकते हैं। विपक्षी नेताओं को छह सदस्यीय तेलंगाना राष्ट्रीय समिति का समर्थन मिलने के कारण उसके हौसले बुलंद हैं। अभी तक कई महत्वपूर्ण विधेयकों पर सरकार का साथ दे चुकी टीआरएस (TRS) ने इस विधेयक का विरोध करने का निर्णय किया है। इसके साथ लोकसभा में विधेयक के पक्ष में खड़ी शिवसेना ने मंगलवार को संकेत दिया कि वह भी उच्च सदन में इसका विरोध कर सकती है।
 43 निर्दोषों की मौत पर हुकमरानों की तू-तू मैं-मैं, सत्ता की होड़ में संवेदना शून्य नेता

सदन में भाजपा के 83, JD (U) के 6, अकाली दल के 3 तथा LJP, RPI के 1-1 तथा 11 मनोनीत सदस्य शामिल हैं ।   भाजपा AIDMK से बात कर रही है जिसके 11 सांसद हैं। बीजद के सात सांसद, वाईएसआर कांग्रेस के दो तथा तेदेपा के दो सदस्य हैं। भाजपा को इन दलों के समर्थन की भी उम्मीद है। भाजपा को उम्मीद है कि इन दलों के समर्थन से वह 120 सदस्यों के बहुमत के आंकड़े को प्राप्त कर लेगी ।   
जानें, नागरिकता संशोधन विधेयक का क्यों हो रहा है विरोध?

वहीं विपक्षी खेमे में कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, बसपा, सपा, द्रमुक, राजद, वाम, राकांपा एवं टीआरएस के क्रमश: 46, 13, चार, नौ, पांच, चार, छह, चार और सदस्य हैं। इनको मिलाकर कुल 97 सदस्य हैं। शिवसेना, आम आदमी पार्टी (Aap) और कुछ अन्य दलों के सदस्यों को मिलाकर यह आंकड़ा 110 पर पहुंचता है। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.